ईमानदारी, वफादारी और बहादुरी को अपनाएं युवा सैनिक: ब्रिगेडियर जितेन आले

बेंगलूरु: एएससी केंद्र से अग्निवीरों का तीसरा बैच उत्तीर्ण हुआ

ईमानदारी, वफादारी और बहादुरी को अपनाएं युवा सैनिक: ब्रिगेडियर जितेन आले

इस समारोह में अग्निवीरों के माता-पिता भी मौजूद थे

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। सशस्त्र बलों की तीनों सेवाओं में सैनिकों की भर्ती के लिए भारत सरकार द्वारा अनुमोदित अग्निपथ योजना के अंतर्गत, अग्निवीरों को एएससी केंद्र (उत्तर) में प्रशिक्षित किया जा रहा है।

अग्निवीरों के तीसरे बैच का प्रशिक्षण एक नवंबर, 2023 से शुरू हुआ, जिसमें 261 अग्निवीर चालक मोटर वाहन (डीएमवी) सोमवार को केंद्र से उत्तीर्ण हुए। 

सेना सेवा कोर केंद्र (उत्तर) - 1 एटीसी के सेंटर कमांडेंट ब्रिगेडियर जितेन आले ने अग्निवीरों की पासिंग आउट परेड की समीक्षा की।

उन्होंने अपने भाषण में युवा सैनिकों से 'ईमानदारी, वफादारी और बहादुरी' के सैनिक मूल्यों को अपनाने का भी आह्वान किया।

इस समारोह में अग्निवीरों के माता-पिता भी मौजूद थे। सभी अभिभावकों को भारतीय सेना द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित 'गौरव पदक' से सम्मानित किया गया, जो उनके बच्चों को राष्ट्र की सेवा में सेना के योद्धाओं में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने के उनके नेक कार्य के प्रतीक के रूप में है।

Google News

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News