राजस्थान में बाल विवाह रोकने के लिए उच्च न्यायालय ने दिए ये सख्त निर्देश

राजस्थान में आज भी अक्षय तृतीया पर बाल विवाह होते हैं

राजस्थान में बाल विवाह रोकने के लिए उच्च न्यायालय ने दिए ये सख्त निर्देश

Photo: hcraj.nic.in

जयपुर/दक्षिण भारत। राजस्थान में बाल विवाह की रोकथाम सुनिश्चित करने के लिए उच्च न्यायालय ने सख्त निर्देश दिए हैं। उसने राज्य सरकार से कहा है कोई बाल विवाह नहीं होना चाहिए। उसने कहा कि यदि ऐसा होता है तो ग्राम प्रधान और पंचायत सदस्यों को जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

उच्च न्यायालय का आदेश 10 मई को अक्षय तृतीया से पहले बुधवार को आया। राजस्थान में इस अवसर पर कई बाल विवाह होते हैं।

बाल विवाह को रोकने के लिए अदालत के हस्तक्षेप की मांग करने वाली एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायालय की खंडपीठ ने कहा कि बाल विवाह निषेध अधिनियम, 2006 लागू होने के बावजूद राज्य में अभी भी बाल विवाह हो रहे हैं।

न्यायालय ने कहा कि हालांकि अधिकारियों के प्रयासों से बाल विवाह की संख्या में कमी आई है, लेकिन अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है।

याचिकाकर्ताओं के वकील आरपी सिंह ने कहा कि न्यायालय को एक सूची भी प्रदान की गई थी, जिसमें अक्षय तृतीया के आसपास राज्य में होने वाले बाल विवाह का विवरण दिया गया था।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सरकार ये 3 काम कर दे तो बीएसएनएल के आ जाएंगे अच्छे दिन! सरकार ये 3 काम कर दे तो बीएसएनएल के आ जाएंगे अच्छे दिन!
इन दिनों बीएसएनएल में सिम पोर्ट करवाने को इस तरह पेश किया जा रहा है, जैसे यह कोई 'स्वतंत्रता संग्राम'...
सिद्दरामैया ने विधानसभा सत्र से पहले की बैठक, मंत्रियों व अधिकारियों को दिया यह निर्देश
'एक पेड़ मां के नाम' जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का उपयुक्त जवाब: शाह
आर्मस्ट्रांग की हत्या के आरोपी के मुठभेड़ में खात्मे ने संदेह पैदा किया: पलानीस्वामी
46 साल बाद फिर से खोला गया जगन्नाथ मंदिर का 'रत्न भंडार'
डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला शख्स कौन था, उसके साथ क्या हुआ?
अपने मित्र डोनाल्ड ट्रंप पर हुए हमले से बहुत चिंतित हूं: मोदी