दक्षिण पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में शानदार प्रदर्शन किया

माल ढुलाई के संबंध में अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन किया

दक्षिण पश्चिम रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में शानदार प्रदर्शन किया

Photo: @SWRRLY X account

हुब्बली/दक्षिण भारत। दक्षिण पश्चिम रेलवे (दपरे) ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में उल्लेखनीय वृद्धि हासिल की है। रेलवे माल और पार्सल यातायात के लिए परिवहन का सबसे पसंदीदा साधन बन गया है।

दपरे ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में 7.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करते हुए 50.37 मिलियन टन माल ढुलाई की है।

लादी गईं वस्तुओं में 22.02 मिलियन टन लौह अयस्क, 9.97 मिलियन टन कोयला, 8.79 मिलियन टन स्टील, 0.08 मिलियन टन खाद्यान्न, 1.13 मिलियन टन सीमेंट आदि शामिल हैं।

वर्ष 2023-24 के दौरान अर्जित माल ढुलाई राजस्व 5022.85 करोड़ रुपए है, जो वित्तीय वर्ष 2022-23 से 8.94 प्रतिशत अधिक है। 

वर्ष 2023-24 के दौरान दपरे का पार्सल राजस्व 157.69 करोड़ रुपए है। दपरे ने वित्तीय वर्ष 2023-24 में 658 ऑटोमोबाइल रेक लोड किए हैं।

दपरे की विविध तरीकों से कमाई 333.46 करोड़ रुपए रही है। उसने 155.32 करोड़ रुपए का स्क्रैप बेचा और रेलवे बोर्ड द्वारा निर्धारित लक्ष्य को पार कर लिया है।

दपरे ने बुनियादी ढांचे के विकास पर विशेष जोर दिया है। वर्ष 2023-24 के दौरान शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन प्राप्त करने की दिशा में 43 किलोमीटर दोहरीकरण और 29 किलोमीटर नई लाइनों और 611 रूट किलोमीटर का विद्युतीकरण पूरा किया गया है।

वित्तीय वर्ष 2023-24 में माल ढुलाई व्यवसाय से आउटपुट के मामले में दपरे ने अपने इतिहास में अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन दर्ज किया है। दपरे ने 50.37 मीट्रिक टन का प्रारंभिक माल लदान हासिल किया है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस