बेंगलूरु: साल 2023 में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध बढ़े

आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली है

बेंगलूरु: साल 2023 में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध बढ़े

Photo: Bengaluru City Police X account

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। बेंगलूरु में साल 2023 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई और शहर पुलिस ने छेड़छाड़ से संबंधित 1,135 सहित 3,260 मामले दर्ज किए हैं। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली है।

पुलिस ने इस वृद्धि के लिए अन्य कारकों के अलावा बढ़ती जागरूकता, स्वत: संज्ञान मामले दर्ज करने की पहल और ई-एफआईआर दर्ज करने को जिम्मेदार बताया है।

पुलिस द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, साल 2023 में शहर में पिछले दो वर्षों की तुलना में अन्य अपराधों में भी वृद्धि देखी गई। पुलिस ने हत्या के 205 मामले, चेन स्नैचिंग के 153 मामले, डकैती के 673 मामले, घर में चोरी के 1,692 मामले और मोटर वाहन चोरी के 5,909 मामले दर्ज किए हैं।

आंकड़ों के मुताबिक, शहर पुलिस ने साल 2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराध से संबंधित 2020 एफआईआर, साल 2022 में 2630 एफआईआर और साल 2023 में 3,260 एफआईआर दर्ज की हैं।

पिछले साल दर्ज किए गए महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल मामलों में से, शहर पुलिस 3,121 मामलों का पता लगाने में सफल रही।

साल 2023 में पुलिस ने दुष्कर्म के 176 मामले, छेड़छाड़ के 1135 मामले, महिलाओं के अपमान से संबंधित 60 मामले, दहेज हत्या से संबंधित 25 मामले, पति या पति के रिश्तेदारों द्वारा क्रूरता से संबंधित 696 मामले, अनैतिक तस्करी अधिनियम के 161 मामले दर्ज किए। वहीं, 1007 मामले दहेज प्रतिषेध अधिनियम से संबंधित हैं।

शहर में साल 2023 में बच्चों के खिलाफ अपराध के मामलों में भी वृद्धि देखी गई और पुलिस ने 631 मामले दर्ज किए, जिनमें से 560 पॉक्सो अधिनियम के तहत दर्ज किए गए। पुलिस 588 मामलों का पता लगाने में सफल रही। 

पिछले साल, बेंगलूरु में जुए के मामलों में वृद्धि देखी गई और पुलिस ने 639 मामले दर्ज किए। साल 2021 और 2022 में जुए के क्रमशः 588 और 622 मामले दर्ज किए गए थे।

शहर में पिछले साल बिजली का झटका लगने, डूबने, जलने, ऊंचाई से गिरने और जहर के सेवन सहित अन्य कारणों से 2,358 आत्महत्याएं और 5,848 आकस्मिक मौतें हुईं। आंकड़ों में यह भी कहा गया है कि साल 2023 में बेंगलूरु में 6,006 लोगों के लापता होने की सूचना मिली थी। इनमें से पुलिस 5,026 लोगों का पता लगाने में सफल रही, जबकि 1,189 अपहरण के मामले दर्ज किए गए।

इनमें से 981 मामले सामने आए। नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट के तहत, बेंगलूरु पुलिस ने 3443 मामले दर्ज किए, 103.22 करोड़ रुपए मूल्य की 5387 किलोग्राम दवाएं जब्त कीं और साल 2023 में 4,399 लोगों को गिरफ्तार किया।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News