पराली जलाने की घटनाओं पर रोक लगानी होगी: उच्चतम न्यायालय

पीठ ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय परिणाम देखना चाहता है

पराली जलाने की घटनाओं पर रोक लगानी होगी: उच्चतम न्यायालय

शीर्ष अदालत वायु प्रदूषण पर पर्यावरणविद् एमसी मेहता द्वारा दायर एक याचिका पर विचार कर रही है

नई दिल्ली/भाषा। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि पंजाब और दिल्ली से सटे कुछ अन्य राज्यों में पराली जलाने की घटनाएं रोकनी होंगी और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए समाधान खोजना होगा।

न्यायमूर्ति संजय किशन कौल, न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया और न्यायमूर्ति अहसानुद्दीन अमानुल्लाह की पीठ ने दिल्ली-एनसीआर में खतरनाक वायु प्रदूषण से संबंधित एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि प्रदूषण से जुड़ी कई रिपोर्ट और समितियां हैं, लेकिन जमीनी स्तर पर कुछ भी नहीं हो रहा।

पीठ ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय परिणाम देखना चाहता है। न्यायालय को बताया गया कि पराली जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

शीर्ष अदालत वायु प्रदूषण पर 1985 में पर्यावरणविद् एमसी मेहता द्वारा दायर एक याचिका पर विचार कर रही है और इसी मामले की सुनवाई के दौरान पराली जलाए जाने का मुद्दा उठा।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सेजल गुलिया ने कॉमनवेल्थ जूनियर और कैडेट फेंसिंग चैंपियनशिप में व्यक्तिगत कांस्य पदक जीता सेजल गुलिया ने कॉमनवेल्थ जूनियर और कैडेट फेंसिंग चैंपियनशिप में व्यक्तिगत कांस्य पदक जीता
सेजल ने कहा- 'मैं अपने कोच, टीम के साथियों और परिवार के सहयोग के बिना यहां नहीं पहुंच पाती'
क्राइस्टचर्च: कॉमनवेल्थ कैडेट फेंसिंग चैंपियनशिप में सेजल के दमदार प्रदर्शन के साथ भारत ने जीता रजत पदक
तटीय कर्नाटक में रेलवे विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी: केंद्रीय मंत्री सोमन्ना
ट्रंप पर हमले में ईरान का हाथ? जनरल सुलेमानी की हत्या होने के बाद खाई थी यह कसम!
कर्नाटक: वाल्मीकि निगम घोटाला मामले में ईडी ने पूर्व मंत्री नागेंद्र की पत्नी से पूछताछ की
बांग्लादेश में लगी आरक्षण आंदोलन की आग, झड़पों में कई लोगों की मौत
कई नेताओं ने छोड़ी अजित पवार की राकांपा, सु​प्रिया बोलीं- 'लोग बड़ी उम्मीदों से देख रहे'