श्रीलंका को श्रीलंका में हराना आसान नहीं होगा : विराट

श्रीलंका को श्रीलंका में हराना आसान नहीं होगा : विराट

कोलंबो। श्रीलंका के खिलाफ तीन टेस्ट की श्रृंखला से पहले शुक्रवार से अध्यक्ष एकादश के खिलाफ शुरू हो रहे दो दिवसीय अभ्यास मैच में सभी की नजरें फिट होकर टीम में वापसी करने वाले रोहित शर्मा और केएल राहुल पर लगी होंगी। रोहित ने आखिरी टेस्ट पिछले साल अक्टूबर में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था। इसके बाद घरेलू सत्र में वह इंग्लैंड, बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखलाएं नहीं खेल सके। न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे श्रृंखला के दौरान उनका ऑपरेशन हुआ था। फिट होने के बाद उन्होंने कोई प्रथम श्रेणी मैच नहीं खेला लेकिन इंडियन प्रीमियर लीग में भाग लिया और चैम्पियंस ट्राफी के जरिये भारतीय टीम में वापसी की जिसमें उन्होंने ३०० से अधिक रन बनाए। राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने उन्हें तरोताजा बनाए रखने के लिए वेस्टइंडीज दौरे पर आराम दिया। दूसरी ओर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला में सात पारियों में छह अर्धशतक जमाने वाले राहुल कंधे के ऑपरेशन के बाद वापसी कर रहे हैं। कंधे की चोट के कारण वह आईपीएल, चैम्पियंस ट्राफी और वेस्टइंडीज के खिलाफ श्रृंखला नहीं खेल सके थे। दोनों बल्लेबाज इस अभ्यास मैच में अधिक से अधिक समय क्रीज पर बिताकर लय हासिल करना चाहेंगे ताकि २६ जुलाई से गाले में शुरू हो रहे पहले टेस्ट के लिए टीम में जगह बना सके।यह अभ्यास मैच रवि शास्त्री का मुख्य कोच बनने के बाद पहला मैच होगा। काफी नाटकीय घटनाक्रम के बाद इस महीने की शुरुआत में उन्हें दो साल के लिए मुख्य कोच बनाया गया है। कप्तान विराट कोहली सभी गेंदबाजों और बल्लेबाजों को आजमाकर पहले टेस्ट के लिए सर्वश्रेष्ठ एकादश तलाशना चाहेंगे। इस मैच से उन्हें अपने गेंदबाजों को परखने का मौका मिलेगा चूंकि इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी टीम में वापसी कर रहे हैं। हरफनमौला हार्दिक पांड्या ने भी वापसी की है जो कंधे की चोट के कारण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी दो टेस्ट नहीं खेल सके थे। घरेलू सत्र में शानदार प्रदर्शन करने वाले उमेश यादव का खेलना तय है। श्रीलंका की धीमी पिचों को देखते हुए भारत त्रिकोणीय स्पिन आक्रमण उतार सकता है जिसमें आर अश्विन और रविंद्र जडेजा का साथ चाइनामैन कुलदीप यादव देंगे।भारतीय कप्तान विराट कोहली ने श्रीलंका दौरे पर पहुंचने के बाद गुरुवार को कहा कि मेजबान टीम को उसी के घर में हराना बेहद मुश्किल काम है और टीम इंडिया को जीत हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। भारतीय टीम के श्रीलंका पहुंचने के बाद विराट ने कोच रवि शास्त्री के साथ अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में कहा, वर्ष २०१५ में हमने पिछले दौरे में यहां सीरीज २-१ से जीती थी। उसके बाद से लगातार बेहतर प्रदर्शन करते हुए हम नंबर वन बने हैं और आज नंबर एक के रूप में इस सीरीज में मौजूद हैं। २८ वर्षीय कप्तान ने कहा, हमें श्रीलंका का दौरा हमेशा पसंद आया है। हमने पूर्व में यहां कई सफलताएं हासिल की हैं लेकिन श्रीलंका को उसकी जमीन पर हराना कभी आसान नहीं रहा है। यह एक जबरदस्त टीम है जो अंतिम क्षण तक संघर्ष करना जानती है। विराट ने कहा, जब हमने वर्ष २०१४-१५ में ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था तो हम रैंकिंग में सातवें नंबर पर थे। श्रीलंका में गाले में हमने पहला टेस्ट गंवा दिया था। इस हार ने हमें पूरी तरह झकझोर कर रख दिया था जिसके बाद हमने वापसी करते हुए सीरीज जीत हासिल की। इस जीत ने हमें खुद पर भरोसा करने का आत्मविश्वास दिया और टीम इंडिया के परिवर्तन का दौर इसी सीरीज जीत के साथ शुरू हुआ।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List