‘द स्काई इज पिंक’ में सबकुछ वास्तविक: सोनाली बोस

‘द स्काई इज पिंक’ में सबकुछ वास्तविक: सोनाली बोस

‘द स्काई इज पिंक’ का एक पोस्टर

मुंबई/भाषा। फिल्म निर्माता एवं निर्देशक सोनाली बोस की फिल्म ‘द स्काई इज पिंक’ शुक्रवार को 44वें टोरंटो अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिखाई जाएगी। इस फिल्म में प्रियंका चोपड़ा, फरहान अख्तर और जायरा वसीम मुख्य भूमिकाओं में हैं।

‘अमू’ ‘मार्गरीटा विद ए स्ट्रॉ’ जैसी फिल्मों का निर्देशन करने वाली सोनाली ने ‘द स्काई इज पिंक’ बनाने के अपने अनुभव के बारे में बात की है। टोरंटो अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में ‘अमू’ ‘मार्गरीटा विद ए स्ट्रॉ’ का भी प्रदर्शन हुआ। ‘द स्काई इज पिंक’ ऐसे माता-पिता की कहानी है जिनकी 19 वर्षीय बेटी की मौत हो जाती है।

बोस ने कहा, शुरुआत में फरहान और प्रियंका के साथ काम करना थोड़ा डराने वाला था। फरहान खुद निर्देशक हैं और मुझे काफी पसंद भी हैं। वह एक ऐसे व्यक्ति हैं जिनके निर्देशन में प्रियंका ने भी काम किया है। मैं काफी सचेत थी लेकिन दोनों ने खुद को पूरी तरह सौंप दिया और मुझ पर विश्वास किया, जिससे मेरा काम आसान हो गया।

‘द स्काई इज पिंक’ वास्तविक जीवन पर आधारित कहानी है। यह अदिति और नीरेन चौधरी के जीवन पर है जिनकी 19 साल की बेटी आइशा की एक बीमारी से मौत हो जाती है। बोस ने कहा कि आइशा को कविताओं और पेंटिंग का शौक था। उसने ‘मार्गरीटा विद स्ट्रॉ’ का ट्रेलर 30 से 40 बार देखा देखा था। वह फिल्म भी देखना चाहती थी लेकिन उसकी मौत रिलीज से पहले ही हो गई।

आइशा के माता-पिता ने वह फिल्म देखी और छह महीने के बाद अपनी बेटी के जीवन और मौत पर फिल्म बनाने के लिए बोस से संपर्क किया। फिल्म में कहानी आइशा ने बताई है। यह किरदार जायरा वसीम ने अदा किया है। निर्देशक ने कहा, इस फिल्म में सबकुछ वास्तविक है। मैंने इसमें कुछ भी तैयार नहीं किया है।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने संकल्प लिया था कि सिंदरी के इस खाद कारखाने को जरूर शुरू करवाऊंगा
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ