एक्शन फिल्म ‍‍‘निकम्मा’ से अभिनय की दुनिया में वापसी करेंगी शिल्पा

एक्शन फिल्म ‍‍‘निकम्मा’ से अभिनय की दुनिया में वापसी करेंगी शिल्पा

shilpa shetty

मुंबई/भाषा। अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी एक्शन फिल्म ‍‍‘निकम्मा’ से दोबारा फिल्मी दुनिया में वापसी कर रही हैं। इससे पहले वर्ष 2007 में फिल्म ‘अपने’ में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी। शिल्पा फिल्म ‘ओम शांति ओम’ और ‘दोस्ताना’ में भी नजर आईं थी।

‘निकम्मा’ को सब्बीर खान निर्देशित कर रहे हैं। शिल्पा के साथ ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ के अभिनेता अभिमन्यु दस्सानी और सोशल मीडिया सनसनी शर्ली सेतिया होंगी।

शिल्पा ने एक बयान में कहा, मैं बहुत खुश हूं, मैं दोबारा अभिनय के क्षेत्र में प्रवेश कर और बड़े स्क्रीन पर दिखने को तैयार हूं। मैं विशेष स्फूर्तिदायक परियोजना और सब्बीर के साथ काम करने को लेकर उत्सुक हूं। फिल्म में मेरा किरदार बहुत प्यारा है, जिसे पहले मैंने कभी नहीं किया है। दर्शकों द्वारा मेरे नए अवतार को देखने के लिए इंतजार करना मेरे लिए मुश्किल हो रहा है।

‘हीरोपंती’ और ‘बागी’ फिल्मों से चर्चित सब्बीर ने कहा, शिल्पा प्रत्येक घर में लोकप्रिय नाम है। वे इस बारे में स्पष्ट थीं कि उपयुक्त किरदार मिलने पर ही वापसी करेंगी। मैं शिल्पा के साथ काम करके और उनकी कमी महसूस कर रहे दर्शकों के लिए उन्हें वापस लाकर खुश हूं।

सोनी पिक्चर्स इंटरनेशनल प्रोडक्शंस एंड सब्बीर खान फिल्म्स मिलकर ‘निकम्मा’ का निर्माण कर रहे हैं। फिल्म को 2020 तक रिलीज करने की योजना है।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने संकल्प लिया था कि सिंदरी के इस खाद कारखाने को जरूर शुरू करवाऊंगा
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ