आय से अधिक संपत्ति मामले में अन्नाद्रमुक नेता अंबालगन से जुड़े 58 परिसरों पर छापे

अन्नाद्रमुक ने इस अभियान को राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई बताया

चेन्न्ई/दक्षिण्ा भारत/ सतर्कता एवं भ्रष्टाचार रोधी निदेशालय (डीवीएसी) ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में बृहस्पतिवार को तमिलनाडु और तेलंगाना में अन्नाद्रमुक नेता एवं पूर्व मंत्री के.पी. अंबालगन के कई परिसरों पर छापे मारे। अंबालगन राज्य में पिछली अन्नााद्रमुक सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री थे। अन्नााद्रमुक ने इस तलाशी अभियान को राजनीतिक प्रतिशोध की कार्रवाई बताया।
अन्नााद्रमुक के शीर्ष नेताओं ओ. पनीरसेल्वम और के. पलानीस्वामी ने आरोप लगाया कि डीवीएसी की इस कार्रवाई का मकसद मुख्यमंत्री एमके स्टालिन की प्रशासनिक अक्षमता पर पर्दा डालना है। दोनों नेताओं ने एक बयान में आरोप लगाया कि लोकोन्मुखी व कल्याणकारी कदमों की दिशा में काम करने के बदले राज्य सरकार अन्नाद्रमुक के खिलाफ 'प्रतिशोधपूर्ण कार्रवाई पर ध्यान केंद्रित कर रही है। डीवीएसी की धर्मपुरी इकाई ने पूर्व मंत्री और उनके परिवार के चार करीबी सदस्यों के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया तथा अधिकारियों ने तेलंगाना के अलावा धर्मपुरी, सेलम और चेन्न्ई में उनके 58 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की। अधिकारियों ने छापे के दौरान ठोस दस्तावेजों के अलावा 6.637 किलोग्राम वजन के स्वर्ण आभूषण, 13.85 किलोग्राम वजन के चांदी के जेवरात और 2,65,31,650 रुपये बेनामी नकदी और बैंक लॉकर की चाबी जब्त की गई। मामले में आगे जांच जारी है।
डीवीएसी अंबालगन समेत ऑल इंडिया अन्नाा द्रविड़ मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) के छह पूर्व मंत्रियों के ठिकानों पर अब तक छापेमारी कर चुका है। डीवीएसी के पुलिस उपाधीक्षक द्वारा भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम, 1988 की विभिन्न् धाराओं के तहत दर्ज प्राथमिकी में पूर्व मंत्री अंबालगन का नाम शामिल है। उन पर भ्रष्ट गतिविधियों में संलिप्त रहने का आरोप लगाया गया है। यह मामला, 2016 से 2021 के बीच का है जब अंबालगन मंत्री थे। 

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List