भाजपा-शिवसेना गठबंधन की घोषणा दो दिन में: उद्धव ठाकरे

भाजपा-शिवसेना गठबंधन की घोषणा दो दिन में: उद्धव ठाकरे

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे

मुंबई/भाषा। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि शिवसेना और भाजपा अगले महीने होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव मिलकर लड़ेंगी और सीटों के बंटवारे पर फैसला अगले दो दिन में हो जाएगा।

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक बैठक के बाद ठाकरे ने कहा, फॉर्मूले पर लोकसभा चुनावों के दौरान फैसला हुआ था। दोनों दलों ने लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ा था। उन्होंने कहा, यह रिपोर्ट मीडिया ने ही फैलाई है कि दोनों दलों में प्रत्येक दल 135 सीटों पर लड़ेगा।

बैठक से पहले शिवसेना के सचिव अनिल देसाई ने एक टीवी चैनल को बताया कि गठबंधन की घोषणा भाजपा प्रमुख अमित शाह की 22 सितंबर को मुंबई यात्रा के दौरान या उसके बाद की जाएगी।

देसाई ने मीडिया में आई इस रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि शिवसेना 126 सीटों पर और भाजपा 162 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। महाराष्ट्र में कुल 288 विधानसभा सीटें हैं। देसाई ने कहा कि सीटों के बंटवारे के बारे में उद्धव ठाकरे और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस मिलकर तय करेंगे।

शिवसेना के वरिष्ठ नेता और महाराष्ट्र सरकार के मंत्री दिवाकर राओते ने हाल में कहा था कि अगर शिवसेना को 50 प्रतिशत सीटें नहीं मिलीं तो गठबंधन टूट जाएगा।

इसके कुछ दिन बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, भाजपा को 50-50 फॉर्मूले का सम्मान करना चाहिए, जिसके बारे में शाह और फडणवीस की मौजूदगी में निर्णय होगा।

महाराष्ट्र में 2014 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा और शिवसेना के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बन सकी थी और उन्होंने अलग-अलग चुनाव लड़ा। हालांकि, चुनाव के बाद शिवसेना ने भाजपा को समर्थन दिया और सरकार में शामिल हुई।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी
ढेंकनाल/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ओडिशा के ढेंकनाल में भाजपा की चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए...
हेलीकॉप्टर हादसे में ईरान के राष्ट्रपति का निधन
आज लोकसभा चुनाव के 5वें चरण का मतदान, अब तक डाले गए इतने वोट
मंदिर: एक वरदान
उप्र: रैली को बिना संबोधित किए ही लौटे राहुल और अखिलेश, यह थी वजह
कांग्रेस-तृणकां एक ही सिक्के के दो पहलू, बंगाल में एक-दूसरे को गाली, दिल्ली में दोस्ती: मोदी
कांग्रेस-सपा ने अनुच्छेद-370 को 70 साल तक संभाल कर रखा, जिससे आतंकवाद बढ़ा: शाह