प. बंगाल: माकपा के गढ़ रहे बांकुरा में भाजपा के बढ़ते असर ने बढ़ाई तृणमूल कांग्रेस की चुनौती

प. बंगाल: माकपा के गढ़ रहे बांकुरा में भाजपा के बढ़ते असर ने बढ़ाई तृणमूल कांग्रेस की चुनौती

बांकुरा (प. बंगाल)/भाषा। एक वक्त में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) का गढ़ रहे बांकुरा में इस बार भाजपा की तेज हो रही लहर और वामपंथ का कमजोर पड़ रहा किला पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के दुर्जेय संगठनात्मक कौशल की परीक्षा लेता नजर आ रहा है।

राजनीतिक विश्लेषक सोमनाथ बरात के मुताबिक राज्य के कई हिस्सों में वामपंथियों की ताकत कमजोर पड़ गई है लेकिन बांकुरा में अब भी उसका जनाधार अच्छा है। उन्होंने कहा कि माकपा एवं भाजपा यहां एक-दूसरे का खेल बिगाड़ सकते हैं और विपक्ष के मतों को विभाजित कर सकते हैं जो टीएमसी के लिए बड़ी राहत की बात होगी।

माकपा एवं भाजपा दोनों ही उस तथ्य को भुना रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रत्याशी सुब्रत मुखर्जी कोलकाता से हैं और दोनो दल दावा कर रहे हैं कि अगर वह चुनाव जीतते हैं तो वह यहां बहुत कम ही नजर आएंगे। तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने अपने मंत्रिमंडल के मंत्री मुखर्जी को अभिनेत्री से नेता बनीं मुनमुन सेन की जगह उतारा है। सेन ने 2014 में टीएमसी की लहर का लाभ लेते हुए नौ बार के सांसद रहे माकपा के बासुदेव आचार्य को हराया था।

बाहरी के टैग के बारे में पूछे जाने पर मुखर्जी ने कहा, जिस तरह गुजरात के नरेंद्र मोदी वाराणसी को विकसित कर रहे हैं, मैं भी उसी तरह से बांकुरा का ख्याल रखूंगा। उन्होंने कहा कि वे जिले से अनभिज्ञ नहीं हैं और पंचायत विभाग जिसके वह मंत्री हैं, उसकी 13 परियोजनाएं फिलहाल यहां चल रही हैं।

मुखर्जी 2009 में टीएमसी प्रत्याशी के तौर पर बासुदेब आचार्य से हार गए थे लेकिन 2004 के चुनावों में जिस अंतर से आचार्य जीते थे, उसको कम करने में सफल रहे थे। आचार्य को 2004 में कुल डाले गए मतों का 60 प्रतिशत हासिल हुआ था लेकिन 2009 में यह नीचे खिसक कर 47.66 प्रतिशत पर आ गया था।

टीएमसी ने 2016 के विधानसभा चुनावों में बांकुरा लोकसभा क्षेत्र की सात में से पांच सीटों पर जीत हासिल की थी और रेवोल्युशनरी सोशलिस्ट पार्टी (आरएसपी) एवं कांग्रेस ने एक-एक सीट जीती थी। भाजपा सभी सीटों पर बड़े अंतर के साथ तीसरे स्थान पर रही थी।

भाजपा प्रत्याशी सुभाष सरकार ने भले ही इस बार यह सीट टीएमसी से छीनने का भरोसा जताया है लेकिन मुखर्जी ने भाजपा को अपना मुख्य प्रतिद्वंद्वी स्वीकार करने से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि कैसे एक पार्टी जिसे पिछले राज्य चुनावों में मामूली वोट मिले थे, उसे टीएमसी का मुख्य प्रतिद्वंद्वी माना जा सकता है। साथ ही वह अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी माकपा को भाजपा के मुकाबले ज्यादा बड़ी चुनौती मानते हैं।

वहीं माकपा प्रत्याशी अमीय पात्रा ने माना कि पिछले साल के पंचायत चुनाव में भाजपा का वोट शेयर बढ़ा था लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इसका यह मतलब नहीं कि वह लोकसभा चुनाव में कुछ लाभ ले पाएगी। बांकुरा में 16,44, 523 मतदाता हैं। यहां लोकसभा के छठे चरण यानी 12 मई को चुनाव होने हैं।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर