उलेमाओं की अपील का अब नहीं होता मतदाताओं पर असर

उलेमाओं की अपील का अब नहीं होता मतदाताओं पर असर

सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली/भाषा। देश में चुनावों के दौरान एक समय वह भी था जब राजनीतिक दल मुस्लिम अल्पसंख्यकों का समर्थन हासिल करने के लिए उलेमा (धर्मगुरुओं) की अपील का इंतजार करते थे और कई मौकों पर इस तरह की अपील का उन्हें फायदा भी मिला। चुनाव के दौरान उलेमा की ओर से अपील अब भी जारी हो रही हैं, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में इनका प्रभाव लगातार कम ही हुआ है।

‘सेन्टर फॉर द स्टडीज ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज’ (सीएसडीएस) में एसोसिएट प्रोफेसर हिलाल अहमद ने भाषा’’ से बातचीत में कहा कि यह गलत धारणा है कि मुसलमान उलेमा की अपील पर वोट देता है। उन्होंने कहा, असल में, मुसलमान अपनी वक्ती और रोजमर्रा की जिंदगी के हिसाब से वोट देते हैं और इनकी अपीलों का उन पर असर नहीं होता।

राजधानी में मुस्लिम समाज के अलग अलग वर्गों से हुई बातचीत में भी इसकी पुष्टि हुई। दिल्ली के मयूर विहार में रहने वाले और पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट शु़जा जमीर ने कहा, पिछले दो तीन दशक में जैसे जैसे मुसलमानों में शिक्षा का प्रसार हुआ, उलेमा की अपीलों का रूतबा गिरता गया। आज हालात यह है कि पढ़ा-लिखा मुसलमान इनकी नहीं सुनता। वह अपनी समझ से वोट करता है।

दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत करने वाले युसूफ नकी का कहना था कि चुनावों के संदर्भ में मौलानाओं की अपील किसी को प्रभावित नहीं करती। उन्होंने कहा, अगर अपील करनी ही है तो किसी ईमानदार और साफ सुथरी छवि के उम्मीदवार को चुनने के लिए करनी चाहिए, न किसी पार्टी के पक्ष में। पुरानी दिल्ली में कैमिस्ट की दुकान चलाने वाले ३९ साल के मोहम्मद उमर कहते हैं, अब मुसलमानों पर किसी अपील का कोई असर नहीं होता है। कम से कम दिल्ली का मुसलमान किसी भी मौलाना या इमाम की अपील पर अपना वोट नहीं देता है। हम पार्टी और उम्मीदवार देखकर वोट देते हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय से पीएचडी कर रही हुमेरा हयात ने कहा कि संविधान हमें अपनी मर्जी से उम्मीदवार का चुनने का हक देता है, इसलिए हमें किसी की क्यों सुननी चाहिए। उन्होंने कहा, मजहब को लेकर भारतीय बहुत संवेदनशील होते हैं और मुझे लगता है कि पार्टियां मौलानाओं का एक मोहरे के तौर पर इस्तेमाल करती हैं।

हिलाल अहमद के अनुसार, चुनाव में मुसलमानों का समर्थन हासिल करने के लिए उलेमा से अपने पक्ष में अपील कराने का सिलसिला १९६७ के चुनाव में शुरू हुआ, जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने दक्षिण एशिया में मुसलमानों के सबसे बड़े शिक्षण संस्थान से अपने पक्ष में अपील जारी कराई थी। अहमद के मुताबिक ‘मुस्लिम वोट बैंक’ शब्द पहली बार तब इस्तेमाल किया गया।

अहमद ने बताया कि देवबंद ने पहली बार इस तरह की अपील जारी कर कहा कि चुनाव में मुसलमानों के लिए बेहतर होगा कि वो इंदिरा गांधी को वोट दें। दारूल उलूम देवबंद उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में स्थित है। यह दक्षिण एशिया में मुसलमानों का सबसे बड़ा शिक्षण संस्थान है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर