जाति एवं तुष्टिकरण की राजनीति खत्म करना आवश्यक : योगी

जाति एवं तुष्टिकरण की राजनीति खत्म करना आवश्यक : योगी

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि प्रदेश में पिछले 15 वर्ष से चली आ रही जाति एवं तुष्टिकरण की राजनीति को समाप्त करना आवश्यक है।

योगी ने यहां हिन्दुस्तान फर्टिलाइजर कार्पोरेशन लिमिटेड की एक इकाई और गेल के गैस टर्मिनल के भूमि पूजन के बाद कहा कि उत्तर प्रदेश को सुदृढ बनाने के लिए आवश्यक है कि हम पिछले 15 साल से होती आ रही राजनीति को खत्म करें। सरकार यह सुनिश्‍चित करने की दिशा में कार्य कर रही है कि महिलाओं, युवाओें और किसानों तक उनका लाभ पहुंचे।

उन्होंने कहा, हमारा ध्यान किसानों, महिलाओं, ग्रामीणों और उन लोगों पर है, जो मुख्यधारा का हिस्सा नहीं हैं।

मुख्यमंत्री दो दिवसीय दौरे पर यहां पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि भारत तभी सक्षम और मजबूत बन सकता है जब उत्तर प्रदेश सक्षम और मजबूत होगा और इसके लिए हमें जाति एवं तुष्टिकरण की राजनीति समाप्त करनी होगी, जो पिछले 1520 साल से चल रही थी।

उन्होंने क्षेत्र के लिए उनकी सरकार की ओर से किये जा रहे कार्यों का उल्लेख करते हुए कहा कि हमने किसानों से 37 लाख टन गेहूं खरीद की जबकि पूर्व की सरकार पांच साल में 30 लाख टन खरीद भी नहीं कर पायी थी।

योगी ने बताया कि गोरखपुर में एक नयी चीनी मिल का शुभारंभ किया जाएगा। इसमें डिस्टिलरी एवं एवं बिजली उत्पादन इकाई भी होगी। इससे क्षेत्र में रोजगार बढेगा।

उन्होंने केन्द्रीय विद्यालय स्थापित करने के लिए संबद्ध लोगों से प्रस्ताव भेजने को कहा, क्योंकि पूर्व में चल रहा ऐसा एक विद्यालय बंद हो गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए हर किसी के लिए विकास ही एकमात्र रास्ता है।

मुख्यमंत्री के वनटंगिया समुदाय के साथ दीपोत्सव मनाने के लिए 19 अक्तूबर को यहां फिर आने की संभावना है।

अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री सांसद रहते वनटंगिया समुदाय से जुड़ा मुद्दा संसद में उठाते रहे हैं। वह इस समुदाय की 23 बस्तियों को राजस्व ग्राम का दर्जा प्रदान करेंगे ताकि ये लोग पेंशन एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली सहित विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकें।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

7 लाख रुपए की कमाई और आयकर की नई व्यवस्था का गणित यहां समझें 7 लाख रुपए की कमाई और आयकर की नई व्यवस्था का गणित यहां समझें
‘डिफॉल्ट’ का मतलब है कि अगर आयकर रिटर्न भरते समय आपने विकल्प नहीं चुना तो आप स्वत: नई आयकर व्यवस्था...
आम बजट में क्या सस्ता, क्या महंगा? यहां जानिए सबकुछ
वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पेश की जाएगी पीएम-प्रणाम योजना
बजट: अपर भद्रा परियोजना के लिए 5,300 करोड़ रु. की घोषणा, बोम्मई ने जताया आभार
अब 7 लाख रुपए तक की सालाना आय वालों को नहीं देना होगा टैक्स
एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूलों के लिए की जाएगी 38,800 शिक्षकों की भर्ती
बजट भाषण: 80 करोड़ लोगों को दिया मुफ्त अनाज, 2.2 लाख करोड़ रु. का हस्तांतरण