माकपा को भाजपा-जद (एस) गठबंधन को लेकर कोई भ्रम है: देवेगौड़ा

'लगता है कि मेरे कम्युनिस्ट मित्रों ने न तो मेरी कही बात को समझा और न ही इस बात के संदर्भ को समझा’

माकपा को भाजपा-जद (एस) गठबंधन को लेकर कोई भ्रम है: देवेगौड़ा

उन्होंने कहा, ‘मैंने केवल इतना कहा कि केरल में मेरी पार्टी की इकाई एलडीएफ सरकार के साथ मिलकर काम रही है'

बेंगलूरु/भाषा। जनता दल-सेक्युलर (जद-एस) के प्रमुख एचडी देवेगौड़ा ने शनिवार को कहा कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ उनकी पार्टी के गठबंधन को लेकर केरल में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) को कोई भ्रम है और उन्होंने पड़ोसी राज्य में सत्तारूढ़ वाम दल द्वारा इस गठबंधन का समर्थन किए जाने की बात कभी नहीं कही।

देवेगौड़ा ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा, ‘माकपा पर मेरे बयान को लेकर कोई भ्रम है। लगता है कि मेरे कम्युनिस्ट मित्रों ने न तो मेरी कही बात को समझा और न ही इस बात के संदर्भ को समझा।’

उन्होंने कहा, ‘मैंने केवल इतना कहा कि केरल में मेरी पार्टी की इकाई एलडीएफ सरकार के साथ मिलकर काम रही है, क्योंकि भाजपा के साथ हमारे गठबंधन के बाद मेरी पार्टी की कर्नाटक के बाहर इकाइयों के भीतर चीजें अनसुलझी हैं। काश, माकपा नेताओं ने अपने शब्दों को बेहतर तरीके से चुना होता या स्पष्टीकरण मांगा होता।’

पूर्व प्रधानमंत्री देवेगौड़ा ने भाजपा के साथ गठबंधन का विरोध कर बगावत का बिगुल बजाने वाले पार्टी की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष एवं अपने करीबी सहयोगी सीएम इब्राहिम को बृहस्पतिवार को पद से हटा दिया।

इब्राहिम ने साल 2024 लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ पार्टी के गठबंधन का विरोध किया था और बगावती तेवर दिखाए थे।

देवेगौड़ा ने राज्य कार्य समिति को भंग कर दिया और अपने बेटे एवं पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को इसका तदर्थ अध्यक्ष नियुक्त किया।

उन्होंने कहा था, ‘केरल की वाम सरकार के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने पार्टी को बचाने के लिए कर्नाटक में भाजपा के साथ आगे बढ़ने की पूरी सहमति दे दी है। यही स्थिति है।’

विजयन ने शुक्रवार को देवेगौड़ा के इस दावे को निराधार और झूठा बताकर खारिज कर दिया कि उन्होंने कर्नाटक में भाजपा के साथ जद (एस) के गठबंधन को मंजूरी दी है।

केरल के मुख्यमंत्री विजयन ने पूर्व प्रधानमंत्री से अपना बयान सुधारने को भी कहा।

विजयन ने कड़े शब्दों में कहा कि जद (एस) की प्रदेश इकाई ने साफ किया था कि वे भाजपा के साथ गठबंधन के पूरी तरह खिलाफ हैं और वे केरल में वाम मोर्चा के साथ मजबूती से खड़े रहेंगे।

उन्होंने कहा, ‘देवेगौड़ा भाजपा के साथ पहली बार हाथ नहीं मिला रहे। हम सभी को साल 2006 याद है, जब जद (एस) ने भाजपा के साथ हाथ मिलाया था। उन्होंने अपनी विचारधारा को छोड़ दिया था और अपने बेटे को मंत्री पद दिलाने के लिए भाजपा से हाथ मिला लिया।’

विजयन ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा जिसने आरोप लगाया है कि माकपा और भाजपा के बीच संबंध है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

'मेक-इन इंडिया' के सपने को साकार करने में एचएएल की बहुत बड़ी भूमिका: रक्षा राज्य मंत्री 'मेक-इन इंडिया' के सपने को साकार करने में एचएएल की बहुत बड़ी भूमिका: रक्षा राज्य मंत्री
उन्होंने एचएएल के शीर्ष प्रबंधन को संबोधित किया
हर साल 4000 से ज्यादा विद्यार्थियों को ऑटोमोटिव कौशल सिखा रही टाटा मोटर्स की स्किल लैब्स पहल
भोजशाला: सर्वेक्षण के खिलाफ याचिका सूचीबद्ध करने पर विचार के लिए उच्चतम न्यायालय सहमत
इमरान ख़ान की पार्टी पर प्रतिबंध लगाएगी पाकिस्तान सरकार!
भोजशाला मामला: एएसआई ने सर्वेक्षण रिपोर्ट मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय को सौंपी
उच्चतम न्यायालय ने सीबीआई की एफआईआर को चुनौती देने वाली शिवकुमार की याचिका खारिज की
ईश्वर ही था, जिसने अकल्पनीय घटना को रोका, अमेरिका को एकजुट करें: ट्रंप