केन्द्र सरकार जल्द ही करेगी कावेरी प्रबंध बोर्ड का गठन : पलानीस्वामी

केन्द्र सरकार जल्द ही करेगी कावेरी प्रबंध बोर्ड का गठन : पलानीस्वामी

सेलम। मुख्यमंत्री ईडाप्पाडी के पलानीस्वामी ने रविवार को सेलम स्थित अन्ना पार्क में पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन और जयललिता के स्मारक की आधारशिला रखी और भूमि पूजन किया। इन स्मारकों का निर्माण ८० लाख रुपए की लागत से किया जाएगा। दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के स्मारक की आधारशिला रखने के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्हें इस बात का विश्वास है कि केन्द्र सरकार आगामी ३ मई से पहले ही कावेरी प्रबंधन बोर्ड का गठन कर देगी। पलानीस्वामी ने कहा कि हमनें कावेरी प्रबंधन बोर्ड गठित करने की मांग के साथ पारित किए गए प्रस्ताव को पहले ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भेज दिया है। मुख्यमंत्री ने एक प्रश्न के जवाब में कहा कि हालांकि केन्द्र सरकार की ओर से अभी तक राज्य सरकार की ओर से भेजे गए प्रस्ताव पर कोई जवाब नहीं दिया है लेकिन तमिलनाडु इस बात को लेकर विश्वस्त है कि राज्य के डेल्टा क्षेत्रों के किसानों की शिकायतों को समझते हुए कावेरी प्रबंधन बोर्ड का गठन करेगी। ज्ञातव्य है कि पलानीस्वामी पिछले दो दिनों से सेलम, ईरोड और तंजावूर जिले के दौरे पर हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री ने सेलम में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कावेरी प्रबंधन बोर्ड के जल्द से जल्द गठन पर बल दिया था। उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने दो दिन पहले बोर्ड के गठन के लिए दो सप्ताह का अतिरिक्त समय देने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?