गुरमीत को गैर भाजपा शासित राज्य की जेल में रखा जाए : स्वराज पार्टी

गुरमीत को गैर भाजपा शासित राज्य की जेल में रखा जाए : स्वराज पार्टी

नई दिल्ली। स्वराज इंडिया पार्टी ने हरियाणा की खट्टर सरकार पर कानून-व्यवस्था बनाए रखने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए उसे बर्खास्त कर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने तथा बलात्कार मामले में दोषी गुरमीत राम रहीम को किसी गैर भारतीय जनता पार्टी शासित राज्य की जेल में रखने की मांग की है। पार्टी ने राम रहीम मामले में न्यायालय के खिलाफ बयान देने के लिए भाजपा सांसद साक्षी महाराज के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज करने की भी मांग की है। स्वराज इंडिया पार्टी के अध्यक्ष योगेन्द्र यादव और पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने सोमवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि खट्टर सरकार गुरमीत राम रहीम मामले में न केवल कानून व्यवस्था बनाए रखने में असफल रही है बल्कि उसने धर्म को राजनीति से जो़डकर संवैधानिक व्यवस्थाओं को तो़डा है । उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले चुनाव के दौरान भाजपा और डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के बीच चुनावी सौदा हुआ था जिसके तहत डेरा समर्थकों को पार्टी के पक्ष में वोट देना था और बदले में डेरा प्रमुख को इस मामले में बचाया जाना था । दोनों नेताओं ने कहा कि इस मामलें में केन्द्रीय जांच ब्यूरो की अदालत किसी दबाव में नहीं आई जो सराहनीय है और इस तरह न्यायपालिका ने संविधान को बचा लिया है । उन्होंने आरोप लगाया कि कोई भी बडा राजनीतिक दल न्यायालय के फैसले का स्वागत नहीं कर रहा है क्योंकि कुछ दल पंजाब और हरियाणा में चुनाव जीतने में डेरा की मदद लेते रहे हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने तय किया है कि एससी-एसटी-ओबीसी के आरक्षण को हम हाथ भी नहीं लगाने...
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर
दिल्ली: आवासीय इमारत में लगी भीषण आग, 3 लोगों की मौत
राजकोट: एसआईटी ने बैठक की, पीड़ितों की पहचान के लिए डीएनए नमूने लिए