दिल्लीः सीट बंटवारे को लेकर इंडि गठबंधन में खींचतान, ‘आप’ के बाद कांग्रेस ने दिया यह बयान

दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सीटों के बंटवारे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में फैसला नहीं किया जा सकता

दिल्लीः सीट बंटवारे को लेकर इंडि गठबंधन में खींचतान, ‘आप’ के बाद कांग्रेस ने दिया यह बयान

Photo: @Arvinder.S.Lovely FB page

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है, जो आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए पूरी तरह तैयार है और सीटों के बंटवारे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में फैसला नहीं किया जा सकता।

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन के बारे में लवली ने कहा कि कांग्रेस ने पिछली बार पांच सीटों पर दूसरा स्थान हासिल किया था।

लवली ने कहा कि लोकसभा की सीटें प्रेस कॉन्फ्रेंस में तय नहीं की जा सकतीं। हम इस बार दिल्ली में किसी भी अन्य पार्टी की तुलना में सबसे ज्यादा तैयार हैं। जब पार्टी के प्रदर्शन की बात आती है तो 2019 के लोकसभा चुनाव के नतीजे सभी जानते हैं। पांच सीटों पर कांग्रेस दूसरे स्थान पर रही थी।

बता दें कि ‘आप’ ने मंगलवार को कहा कि वह आगामी लोकसभा चुनाव में दिल्ली में छह सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है और कांग्रेस को सिर्फ एक सीट देना चाहती है। पार्टी ने जोर देकर कहा कि कांग्रेस, जो इंडि गठबंधन की वरिष्ठ सहयोगी है, राष्ट्रीय राजधानी में पिछले चुनावों में अपने प्रदर्शन को देखते हुए एक भी सीट की हकदार नहीं है। 

लवली ने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस एकमात्र पार्टी है, जिसने सभी सात लोकसभा सीटों पर कई बैठकें की हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इंडि गठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी है और हम हमेशा अन्य विपक्षी दलों के साथ काम करने की पूरी कोशिश करते हैं, क्योंकि हमारा मकसद लोकतंत्र को बचाना है। 

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

ज़िंदगी से खिलवाड़ ज़िंदगी से खिलवाड़
भारत में हर साल बड़ी तादाद में हादसे होते हैं, जिनमें बहुत लोग जान गंवाते हैं
'इंडि' गठबंधन के पक्ष में जन समर्थन की एक अदृश्य लहर है: खरगे का दावा
आज का भारत मोदी के नेतृत्व में न तो किसी के पास गिड़गिड़ाता है, न ही पिछलग्गू है: नड्डा
अदालत ने कविता को 15 अप्रैल तक सीबीआई हिरासत में भेजा
मोदी का आरोप- कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, ये सीमावर्ती गांवों को 'आखिरी गांव' कहते हैं
नरम पड़े मालदीव के तेवर, भारत से आयात के लिए स्थानीय मुद्रा में भुगतान को लेकर कर रहा बात
ठगों से सावधान: आरबीआई में नौकरी के नाम लगा दिया 2 करोड़ रु. से ज्यादा का चूना