श्रीलंका ने भारत को सात विकेट से पीटा

श्रीलंका ने भारत को सात विकेट से पीटा

धर्मशाला। तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल (१३ रन पर चार विकेट) के बाद बल्लेबाजों के शानदार प्रदर्शन के दम पर श्रीलंका ने यहां रविवार को मेजबान भारत को पहले वनडे में सात विकेट से हराकर तीन मैचों की एकदिवसीय सीरीज में १-० की ब़ढत हासिल कर ली। मेहमान श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करते हुए भारत को ३८.२ ओवर में ११२ रन पर समेट दिया और फिर २०.४ ओवर में तीन विकेट पर ११४ रन बनाकर मैच जीत लिया। श्रीलंका के लिए उपुल थरंगा ने ४६ गेंदों पर १० चौकों की बदौलत ४९, विकेटकीपर निरोशन डिकवेला ने २४ गेंदों पर पांच चौकों की मदद से नाबाद २६ और एंजेलो मैथ्यूज ने ४२ गेंदों पर पांच चौकों के सहारे नाबाद २५ रन बनाए। दानुष्का गुणातिल्का (१) और लाहिरू तिरिमाने (०) पर आउट हुए। मैथ्यूज ने थरंगा के साथ तीसरे विकेट के लिए ४६ और डिकवेला के साथ चौथे विकेट के लिए ४९ रन की अविजित साझेदारी की। भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार ने ४२ रन पर एक विकेट, जसप्रीत बुमराह ने ३१ रन पर एक विकेट और हार्दिक पांड्या ने ३९ रन पर एक विकेट हासिल किया। इससे पहले तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल (१३ रन पर चार विकेट) की अगुवाई में अपने गेंदबाजों के करिश्माई प्रदर्शन की बदौलत श्रीलंका ने भारत को ११२ रन पर ढेर कर दिया और २०.४ ओवर में तीन विकेट पर ११४ रन बनाकर मैच जीत लिया। मेहमान श्रीलंका के कप्तान तिषारा परेरा ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने का फैसला किया और उसके गेंदबाजों ने अपने कप्तान के फैसले को सही साबित करते हुए भारत को ३८.२ ओवर में ११२ रन पर समेट दिया। भारत का वनडे इतिहास में यह पांचवां न्यूनतम स्कोर है। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (६५) को छो़डकर भारत के सिर्फ दो बल्लेबाज कुलदीप यादव (१९) और आलराउंडर हार्दिक पांड्या (१०) ही दहाई का आंक़डा छू सके। भारत से टेस्ट सीरीज ०-१ से हारने के बाद श्रीलंका के गेंदबाजों ने यहां कमाल की वापसी की और १६ रन के अंदर ही मेजाबन टीम के पांच बल्लेबाजों को प्वेलियन भेज दिया। लकमल ने इन पांच विकेटों में से तीन विकेट निकाले। वनडे इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी भी टीम ने १६ रन के अंदर ही अपने पहले पांच विकेट गंवाए हैं।नियमित कप्तान विराट कोहली की गैर मौजूदगी में रोहित शर्मा की कप्तानी में पहली बार खेलने उतरी भारतीय टीम ने २९ रन तक आते आते अपने सात विकेट गंवा दिए। वह तो भला हो पूर्व कैप्टन कूल धोनी का जिन्होंने संयम से खेलते हुए अपना अर्धशतक पूरा और टीम के स्कोर को १०० के पार पहुंचाया।धोनी ने हार्दिक के साथ छठे विकेट के लिए १२, कुलदीप के साथ आठवें विकेट के लिए ४१, जसप्रीत बुमराह के साथ नौवें विकेट के लिए १७ और युजवेंद्र चहल के साथ आखिरी विकेट के लिए २५ रन की साझेदारी कर भारत को ११२ रन तक पहुंचाया।धोनी टीम के ११२ के स्कोर पर आखिरी विकेट के रूप में आउट हुए। उन्होंने ८७ गेंदों में १० चौकों और दो छक्कों की बदौलत ६५ रन बनाए और अपने वनडे क्रिकेट करियर में ६७ वां अर्धशतक लगाया। धोनी को तिषारा परेरा ने सीमा रेखा पर गुणातिल्का के हाथ कैच कराकर भारत की पारी का अंत किया।श्रीलंकाई गेंदबाजों के आक्रमण के सामने भारत के चार बल्लेबाज अपना खाता भी नहीं खोल सके। ओपनर और कप्तान रोहित शर्मा ने २, शिखर धवन ने शून्य, वनडे में अपना पदार्पण कर रहे श्रेयस अय्यर ने ९, दिनेश कार्तिक ने शून्य, मनीष पांडे ने २, भुवनेश्वर कुमार ने शून्य और जसप्रीत बुमराह ने शून्य रन बनाए।श्रीलंका के लिए लकमल ने बेहतरीन गेंदबाजी की और १० ओवर में चार मेडन रखते हुए १३ रन देकर चार विकेट हासिल किया जो वनडे में उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन है।इसके अलावा नुवान फर्नांडों ने ३७ रन पर दो विकेट, एंजेलो मैथ्यूज ने आठ रन पर एक विकेट, परेरा ने २९ रन पर एक विकेट, धनंजय ने सात रन पर एक विकेट और पथिराना ने १६ रन पर एक विकेट लिया।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News