.. तो इस वजह मायूस हैं श्रुति हासन!

.. तो इस वजह मायूस हैं श्रुति हासन!

.. तो इस वजह मायूस हैं श्रुति हासन!

अभिनेत्री श्रुति हासन

चेन्नई/भाषा। अभिनेत्री श्रुति हासन ने कहा है कि वह बॉलीवुड की और अधिक फिल्मों में अभिनय नहीं करने से परेशान और मायूस नहीं हैं। उन्होंने 2009 में हिंदी फिल्म ‘लक’ से उन्होंने बॉलीवुड में पदार्पण किया था।

उनकी आखिरी हिंदी फिल्म ‘बहन होगी तेरी’ साल 2017 में रिलीज हुई थी। बहुमुखी अभिनेता कमल हासन की बेटी श्रुति हासन ने दक्षिण भारतीय फिल्मों में अपना मुकाम स्थापित किया है और तमिल तथा तेलुगु भाषा में कई कामयाब फिल्में दी हैं।

उनसे पूछा गया कि क्या और अधिक हिंदी फिल्मों में अभिनय नहीं कर पाने के कारण वह निराश हैं तो अभिनेत्री ने कहा, ‘मैं निराश नहीं हूं। मैं उन सभी फिल्मों के लिए खुश हूं जो मैंने सभी भाषाओं में की हैं।’

वह लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील के बाद सेट पर वापस आ गई हैं लेकिन उन्हें यह सब अब अजीब-सा लग रहा है। श्रुति हासन ने कहा, ‘यह निश्चित तौर पर अजीब-सा अनुभव है। करीब छह महीने तक अकेले रहने के बाद पहले मैंने एक लघु फिल्म के लिए शूटिंग की।’

उन्होंने कहा, ‘कुल मिलाकर मेरा मानना है कि हम सुरक्षा की व्यवस्था में सुधार कर सकते हैं, खासकर फिल्म के सेट पर जहां बड़ी संख्या में लोग होते हैं।’ अभिनेत्री हैदराबाद में तेलुगु फिल्म ‘क्रैक’ की शूटिंग कर रही हैं। गोपीचंद मलिनेनी निर्देशित फिल्म में रवि तेजा मुख्य किरदार में हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने संकल्प लिया था कि सिंदरी के इस खाद कारखाने को जरूर शुरू करवाऊंगा
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ