मैरीकॉम ने पक्का किया अपना पहला राष्ट्रमंडल पदक

मैरीकॉम ने पक्का किया अपना पहला राष्ट्रमंडल पदक

गोल्ड कोस्ट/वार्तापांच बार की विश्व चैंपियन, ओलम्पिक पदक विजेता और एशियाई चैंपियन महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने २१ वें राष्ट्रमंडल खेलों के सेमीफाइनल में पहुंच कर अपना पहला राष्ट्रमंडल खेल पदक पक्का कर लिया है। ७५ किग्रा वर्ग में भारत के विकास कृष्णन क्वार्टरफाइनल में पहुंच गए हैं जबकि ६९ किग्रा वर्ग में सीधे क्वार्टरफाइनल में खेलने उतरीं लवलीना बोर्गोहेन को नजदीकी हार का सामना करना प़डा। मैरी ने स्कॉटलैंड की मेगन गॉर्डन को ४५-४८ किग्रा वर्ग के क्वार्टरफाइनल में ५-० से पीटकर सेमीफाइनल में जगह बना ली। पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में खेल रही मैरी ने इसके साथ ही अपने लिए पदक पक्का कर लिया है। मैरी ने यह मुकाबला ३०-२४, ३०-२४, ३०-२४, ३०-२५, ३०-२५ से जीता। मैरी का सेमीफाइनल में श्रीलंका की अनुषा के साथ मुकाबला होगा।पुरुषों के ७५ किग्रा वर्ग में भारत के विकास कृष्णन ने अपने अभियान की शानदार शुरुआत करते हुए ऑस्ट्रेलिया के कैम्पबेल सोमरविले को ५-० से हरा दिया। मुकाबला काफी नजदीकी रहा और भारतीय मुक्केबाज ने २९-२७, २९-२८, २९-२८, २९-२८, ३०-२७ से जीत हासिल की और क्वार्टरफाइनल में जगह बना ली। विकास का अगला मुकाबला ११ अप्रैल को ़जाम्बिया के बैनी मुजियो से होगा। इस बीच महिलाओं के ६९ किग्रा वर्ग में सीधे क्वार्टरफाइनल में खेलने उतरीं लवलीना बोर्गोहेन ने पदक जीतने का मौका गंवा दिया। लवलीना को पदक पक्का करने के लिए सिर्फ यह मुकाबला जीतना था लेकिन वह इंग्लैंड की सैंडी रेयान से नजदीकी संघर्ष में २-३ से हार गयीं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

एग्जिट पोल: गुजरात की तरह कर्नाटक​ में भी सत्ता में वापसी कर सकेगी भाजपा? बोम्मई ने दिया यह जवाब एग्जिट पोल: गुजरात की तरह कर्नाटक​ में भी सत्ता में वापसी कर सकेगी भाजपा? बोम्मई ने दिया यह जवाब
मुख्यमंत्री ने कहा, बेशक, कर्नाटक में भी अच्छे परिणाम होंगे
कर्नाटक सरकार राज्य के अंदर और बाहर कन्नडिगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: बोम्मई
अफगानिस्तान: सड़क किनारे बम धमाका कर पेट्रोलियम कंपनी के 7 कर्मचारियों को बस समेत उड़ाया
भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, विश्व बैंक ने वृद्धि दर अनुमान इतना बढ़ाया
सीमा विवाद: महाराष्ट्र के मंत्रियों के बेलगावी जाने की संभावना नहीं!
बाबरी विध्वंस के तीन दशक बाद अब क्या कहते हैं अयोध्या के लोग?
जनता की प्रतिक्रिया