मराठी फिल्मों का निर्माण करना चाहते हैं ऋतिक

मराठी फिल्मों का निर्माण करना चाहते हैं ऋतिक

मुंबई। बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रौशन मराठी फिल्मों का निर्माण करना चाहते हैं। ऋतिक ने कहा कि यदि कहानी उत्साहित कर देने वाली हो तो वह मराठी फिल्मों का निर्माण करना चाहेंगे। ऋतिक ने डिजाइनर-निर्देशक विक्रम फडणवीस की मराठी फिल्म ’’हृदयांतर’’ का ट्रेलर लांच किया। ऋतिक ने कहा, फिल्म का प्रभाव अद्भुत है। मुझे लगता है कि अन्य मराठी फिल्म निर्माताओं के लिए विक्रम की इस फिल्म की तरह मुझे प्रभावित करना मुश्किल होगा। मैं मराठी फिल्मों का निर्माण भी करना चाहूंगा अगर कहानी मुझे उत्साहित कर देने वाली हुई।‘ ऋतिक ने कहा,’’हृदयांतर’’ मेरे लिए फिल्म से अधिक है। यह आशा, आकांक्षा, सपने, हार्टब्रैक, साहस, शक्ति, खुशी, दुख और प्रेम है। ्य·र्श्नैंप्रय्-ू ·र्ैंर्‍ ृ्यद्नद्मष्ठख़य्र्‍ त्रद्भ द्मब्र्‍्रअभिनेता ऋतिक रौशन का कहना है कि उनकी आने वाली फिल्म क्रिश-४ की मुख्य अभिनेत्री को लेकर बात करना अभी जल्दबाजी होगा क्योंकि निर्माता फिलहाल फिल्म की पटकथा पर काम कर रहे हैं। क्रिश ३ में अभिनेत्री प्रियंका चोप़डा और कंगना रनौत नजर आईं थीं। ऐसी खबरें हैं कि काबिल अभिनेता फिल्म में एक वंडर वुमन छवि वाली मुख्य अभिनेत्री चाहते हैं और इसके लिए प्रियंका चोप़डा तथा दीपिका पादुकोण के नाम पर चर्चा चल रही है। फिल्म की मुख्य अभिनेत्री के बारे में सवाल किए जाने पर रितिक ने पत्रकारों से कहा, हम फिलहाल पटकथा पर काम कर रहे हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी बीते 10 वर्षों में जनजातीय समाज, गरीबों, युवाओं, महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाकर काम किया: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने संकल्प लिया था कि सिंदरी के इस खाद कारखाने को जरूर शुरू करवाऊंगा
विधानसभा अध्यक्ष के आदेश के खिलाफ ठाकरे गुट की याचिका पर 7 मार्च को सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय
बांग्लादेश: ढाका की बहुमंजिला इमारत में आग लगने से 45 लोगों की मौत
हिंसा का चक्र कब तक?
उदित राज ने भाजपा पर दलितों, पिछड़ों, महिलाओं और आदिवासियों की अनदेखी का आरोप लगाया
केंद्रीय कैबिनेट ने 75 हजार करोड़ रुपए की रूफटॉप सोलर योजना को मंजूरी दी
मंदिर संबंधी विधेयक कर्नाटक विधानसभा से फिर पारित हुआ