व्यापार युद्ध को लेकर तनाव कम होने, विदेशी कोषों के प्रवाह से सेंसेक्स, निफ्टी का नया रिकॉर्ड

व्यापार युद्ध को लेकर तनाव कम होने, विदेशी कोषों के प्रवाह से सेंसेक्स, निफ्टी का नया रिकॉर्ड

शेयर बाजार

मुंबई/भाषा। व्यापार युद्ध को लेकर तनाव कम होने तथा विदेशी कोषों के सतत प्रवाह के बीच मंगलवार को सेंसेक्स और निफ्टी अपने नए सर्वकालिक उच्चस्तर पर बंद हुए। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान के सर्वकालिक उच्चस्तर 41,401.65 अंक को छूने के बाद अंत में 413.45 अंक या 1.01 प्रतिशत की बढ़त के साथ अपने नए उच्चस्तर 41,352.17 अंक पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 111.05 अंक या 0.92 प्रतिशत की बढ़त के साथ 12,165 अंक के अपने नए उच्चस्तर पर बंद हुआ। अमेरिका-चीन व्यापार करार को लेकर उम्मीद के बीच धातु कंपनियों के शेयरों में बढ़त से बाजार में तेजी आई। दूरसंचार, वित्तीय और आईटी कंपनियों के शेयरों ने भी बाजार की बढ़त में योगदान दिया।

सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील 4.38 प्रतिशत चढ़ा। भारती एयरटेल में 4.37 प्रतिशत, वेदांता में 3.50 प्रतिशत, टाटा मोटर्स में 3.03 प्रतिशत, एचडीएफसी में 2.46 प्रतिशत और बजाज फाइनेंस में 2.39 प्रतिशत का लाभ रहा।

वहीं दूसरी ओर सनफार्मा का शेयर 1.37 प्रतिशत टूट गया। महिंद्रा एंड महिंद्रा 0.63 प्रतिशत, बजाज आटो 0.56 प्रतिशत और हिंदुस्तान यूनिलीवर 0.48 प्रतिशत नीचे आया। बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 0.66 प्रतिशत तक का लाभ रहा।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, अमेरिका-चीन के बीच व्यापार युद्ध को लेकर तनाव कम होने के बीच सकारात्मक वैश्विक संकेतों से यहां बाजार में बढ़त रही। आर्थिक वृद्धि निचले स्तर पर बनी हुई है लेकिन सरकार की ओर से आगामी बजट में उपभोग और निवेश को प्रोत्साहन के लिए और उपायों की उम्मीद के बीच निवेशकों की जोखिम लेने की क्षमता बढ़ी है।

इसके अलावा निवेशकों को जीएसटी परिषद की बुधवार को होने वाली बैठक के नतीजों का भी इंतजार है। आनंद राठी एंड स्टॉक ब्रोकर्स के प्रमुख बुनियादी अनुसंधान (निवेश सेवाएं)-एवीपी इक्विटी अनुसंधार नरेंद्र सोलंकी ने कहा, बाजार में सकारात्मक रुख की वजह रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकान्त दास का बयान है। दास ने कहा कि जरूरत होने पर केंद्रीय बैंक नीतिगत दरों के मामले में नरम रुख अपनाएगा।

उन्होंने कहा कि कारोबारी बुधवार को होने वाली जीएसटी परिषद की बैठक को लेकर भी आशान्वति हैं और वे कुछ सकारात्मक नतीजों की उम्मीद कर रहे हैं। विशेषज्ञों ने कहा कि विदेशी कोषों के सतत प्रवाह से भी बाजार धारणा को बल मिला।

शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सोमवार को 728.13 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे। वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 796.38 करोड़ रुपए की बिकवाली की। एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान का निक्की लाभ में रहे। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजारों में मिलाजुला रुख था।

अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया स्थिर था। ब्रेंट कच्चा तेल 0.17 प्रतिशत के नुकसान से 65.23 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List