जेब को कितनी मिली राहत? यहां जानिए आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा की खास बातें

जेब को कितनी मिली राहत? यहां जानिए आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा की खास बातें

भारतीय मुद्रा

मुंबई/भाषा। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की चालू वित्त वर्ष के लिए चौथी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा की मुख्य बातें-

– प्रमुख नीतिगत दर रेपो में 0.25 प्रतिशत की कटौती।

– रेपो दर 5.15 प्रतिशत पर आई, इसी के अनुरूप रिवर्स रेपो दर भी घटकर 4.90 प्रतिशत रह गई।

– नीतिगत दर में वर्ष 2019 में यह लगातार पांचवी कटौती।

– चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर का अनुमान 6.9 प्रतिशत से घटाकर 6.1 प्रतिशत किया।

– आर्थिक वृद्धि की गति बढ़ाने के मद्देनजर मौद्रिक नीति में समायोजन बिठाने वाला नरम रुख बरकरार।

– अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए सरकार के प्रोत्साहन उपायों से निजी क्षेत्र में खपत और निजी निवेश बढ़ाने में मिलेगी मदद।

– लगातार आर्थिक सुस्ती से आर्थिक वृद्धि को बढ़ाने के प्रयास तेज करने की जरूरत।

– दूसरी तिमाही के लिए खुदरा मुद्रास्फीति का अनुमान संशोधित कर 3.4 प्रतिशत किया।

– दूसरी छमाही का खुदरा मुद्रास्फीति अनुमान 3.5 से 3.7 प्रतिशत पर बरकरार।

– रिजर्व बैंक ने माना कि नीतिगत दरों में कटौती का लाभ आगे पहुंचाने का काम आधा-अधूरा ही हुआ।

– विदेशी मुद्रा भंडार एक अक्टूबर तक 434.6 अरब डॉलर रहा, 31 मार्च 2019 के मुकाबले इसमें 21.7 अरब डॉलर की वृद्धि।

– मौद्रिक नीति समिति के सभी सदस्य दरों में कटौती को लेकर सहमत।

– मौद्रिक नीति समिति की अगली बैठक तीन से पांच दिसंबर 2019 को होनी तय।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News