बीबीएमपी अवैध धार्मिक इमारतों की पहचान कर सटीक आंकड़े पेश करे: उच्च न्यायालय

बीबीएमपी अवैध धार्मिक इमारतों की पहचान कर सटीक आंकड़े पेश करे: उच्च न्यायालय

बीबीएमपी अवैध धार्मिक इमारतों की पहचान कर सटीक आंकड़े पेश करे: उच्च न्यायालय

प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक उच्च न्यायालय ने बृहत् बेंगलूरु महानगर पालिके द्वारा शहर में अवैध धार्मिक इमारतों की पहचान करने के लिए किए गए एक सर्वेक्षण आलोचना करते हुए ऐसी इमारतों पर एक सटीक डेटा प्रस्तुत करने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है।

मुख्य न्यायाधीश अभय श्रीनिवास ओका और न्यायमूर्ति सचिन शंकर मगदुम की एक खंडपीठ ने बीबीएमपी आयुक्त एन मंजूनाथ प्रसाद से सवाल करते हुए कहा कि सार्वजनिक और निजी संपत्तियों पर प्रत्येक धार्मिक इमारतों का दौरा किए बिना सर्वेक्षण कैसे किया जा सकता है।

वहीं प्रसाद ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि बीबीएमपी ने शहर में 1,588 अवैध धार्मिक इमारतों की पहचान की थी जिनमें से 1,337 इमारतें 29 सितंबर, 2009 से पहले बनाई गई थी।

सुनवाई के आखिरी दिन बीबीएमपी ने 29 सितंबर, 2009 के बाद से अवैध रूप से बनाई गई 17 धार्मिक इमारतों को अदालत में रखने से पहले एक हलफनामा दायर किया था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा