कालेधन पर प्रहार था नोटबंदी: भाजपा

कालेधन पर प्रहार था नोटबंदी: भाजपा

कालेधन पर प्रहार था नोटबंदी: भाजपा

भाजपा सांसद राजीव चंद्रशेखर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। भाजपा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने रविवार को पार्टी मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार द्वारा पिछले छह वर्षों में किए गए आर्थिक परिवर्तनों या निर्णयों में एक समग्र रूपरेखा और विचार-प्रक्रिया है, जिसमें से एक है नोटबंदी।

राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों के तीन व्यापक आधार थे- आर्थिक रणनीति को किसी भी पश्चिमी मॉडल से उधार नहीं लिया जाना चाहिए और यह भारतीय सिद्धांतों पर आधारित होगा। सात दशकों से जरूरतमंदों की स्थिति को बदलना, और उन्हें आर्थिक समृद्धि की ओर ले जाना। टेक्नोलॉजी का उपयोग और दृढ़प्रतिज्ञ, साफ सरकार से स्वच्छ अर्थव्यवस्था।

राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि कालाधन जो हमारे लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा है, पर नोटबंदी एक बड़ा प्रहार था। साल 2014 से 2016 तक, सरकार ने अनौपचारिक क्षेत्र के लिए कई योजनाओं की घोषणा की। इसने लोगों को माफी के साथ अपनी अघोषित आय की घोषणा करने का अवसर दिया और फिर नोटबंदी की गई

राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि नोटबंदी के तीन प्रभाव हैं: अर्थव्यवस्था की सफाई- जांच में मदद मिली है। औपचारिकीकरण- इसने हमें गरीबों और जरूरतमंदों तक पहुंचने में मदद की है। राजस्व एकत्रीकरण- सरकार एक बड़े आकार की औपचारिक अर्थव्यवस्था के साथ गरीबों की अधिक मदद कर सकती है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर