हमास की 'कैद' में ऐसे बीते इजराइली नागरिकों के दिन!

जंग शुरू होने के बाद से इजराइल ने गाजा पर नकेल कस रखी है

हमास की 'कैद' में ऐसे बीते इजराइली नागरिकों के दिन!

हां खाने की चीजों, ईंधन और अन्य बुनियादी वस्तुओं की कमी हो गई है

तेल अवीव/एपी। हमास द्वारा छोड़ी गई एक इजराइली बंधक ने एक साक्षात्कार में बताया कि उसे शुरुआत में अच्छी तरह खाना दिया गया, लेकिन बाद में हालात बिगड़ने लगे और उसे एक बंद कमरे में रखा गया जहां वह करीब 50 दिन तक प्लास्टिक की कुर्सियों पर एक चादर बिछाकर सोई।

रूती मुंदर (78) ने इजराइल के चैनल 13 को बताया कि उन्होंने अपना पूरा वक्त अपनी बेटी केरेन और नाती ओहाद मुंदर-जिचरी के साथ बताया। इसी दौरान ओहाद का नौवां जन्मदिन पड़ा।

मुंदर को सात अक्टूबर को दक्षिण इजराइल के निर ओज में उनके घर से घसीटकर ले जाया गया। उनके पति अव्राहम (78) को भी बंधक बना लिया गया और वह गाजा में ही हैं। उनके बेटे की हमले में मौत हो गई।

मुंदर ने टेलीविजन चैनल को बताया कि शुरुआत में उन्हें चावल के साथ डिब्बाबंद खाना और चीज़ खाने को दिया गया। उन्होंने कहा, ‘हम अच्छे थे।’

उन्होंने बताया कि सुबह और शाम उन्हें चाय दी जाती थी और बच्चों को मिठाइयां दी जाती थीं। मुंदर के अनुसार, ‘हालांकि आर्थिक हालात बिगड़ने लगे और लोग भूखे रहने लगे जिसके बाद खानपान की चीजों में भी बदलाव हो गया।’

जंग शुरू होने के बाद से इजराइल ने गाजा पर नकेल कस रखी है, जिसके बाद वहां खाने की चीजों, ईंधन और अन्य बुनियादी वस्तुओं की कमी हो गई है।

शुक्रवार को रिहा की गईं मुंदर भी अन्य मुक्त किए गए बंधकों की तरह अच्छी हालत में लौटी हैं। लेकिन 84 वर्षीय एक महिला को उचित देखभाल नहीं मिलने के कारण खराब हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एक अन्य बंधक को सर्जरी की जरूरत है।

बंधकों को वापसी के बाद से सार्वजनिक रूप से नहीं लाया गया है। उनके बारे में कोई भी जानकारी रिश्तेदारों से ही मिल रही है।

उन्होंने बताया कि बंधक बनाए गए कुछ लड़के देर तक बातें करते थे, वहीं कुछ लड़कियां रोती रहती थीं। कुछ लड़के फर्श पर ही सो जाते थे।

मुंदर के अनुसार उन्हें जिस कमरे में रखा गया था, वह ‘दमघोंटू’ था और बंधकों को रोशनदान खोलने से रोक दिया जाता था, लेकिन वह एक खिड़की खोलने में कामयाब रहीं।

इजराइल और हमास ने अपने चार दिन के संघर्ष विराम को बढ़ाने पर सहमति जताई है। संघर्ष विराम के कारण जंग रुक गई है और इजराइल द्वारा कैद किए गए फलस्तीनियों की रिहाई के बदले उसके बंधकों को हमास द्वारा छोड़ा जा रहा है।

इजराइल के दो टीवी चैनलों ने दिखाया कि गाजा में हमास के शीर्ष नेता याहिया सिनवार ने एक सुरंग में बंधकों से मिलकर उन्हें आश्वासन दिया कि उन्हें नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

मिरित रेगेव की 21 साल की बेटी माया को भी हमास ने रविवार को छोड़ा था। रेगेव ने इजराइल के सरकारी प्रसारणकर्ता कान को बताया कि परिवार के सदस्यों को माया का हौसला बढ़ाने की सलाह दी गई है। रेगेव का 18 साल का बेटा इताई अब भी हमास की गिरफ्त में है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा विपक्ष पर मोदी का प्रहार- इस बार तो इन्हें जमानत बचाने के लिए ही बहुत संघर्ष करना पड़ेगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह दशक के परिवारवाद, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण ने उप्र को विकास में पीछे रखा
प्रधानमंत्री मोदी के कुशल नेतृत्व ने भारत को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया: नड्डा
अगले पांच वर्षों में देश आत्मविश्वास से विकास को नई रफ्तार देगा, यह मोदी की गारंटी: प्रधानमंत्री
मुख्य चुनाव आयुक्त ने तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा शुरू की
तेलंगाना: बीआरएस विधायक नंदिता की सड़क दुर्घटना में मौत; मुख्यमंत्री, केसीआर ने जताया शोक
अमेरिका की इस निजी कंपनी ने चंद्रमा पर पहला वाणिज्यिक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा
पश्चिम बंगाल: भाजपा प्रतिनिधिमंडल संदेशखाली का दौरा करेगा