उम्मीद है अगले ग्रैंड स्लेम तक फिट हो जाऊंगी : सानिया

उम्मीद है अगले ग्रैंड स्लेम तक फिट हो जाऊंगी : सानिया

कोलकाता। दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने रविवार को कहा कि विश्व चैंपियन भारतीय अंडर-१९ टीम हाल में समाप्त हुए विश्व कप में अपने अन्य प्रतिद्वंद्वियों से अव्वल थी।तेंदुलकर ने रविवार सुबह यहां कोलकाता फुल मैराथन को हरी झंडी दिखाने के बाद कहा, जिस तरह से उन्होंने शारीरिक और मानसिक तौर पर खुद को तैयार किया, जिस तरह से उनकी रणनीति थी और जिस तरह से उन्होंने उस पर अमल किया उसका कोई सानी नहीं था। इसलिए इसका सबूत है कि भारतीय टीम अन्य प्रतिभागियों से पूरी तरह हटकर थी। भारत ने शनिवार को न्यूजीलैंड में फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराकर अंडर-१९ विश्व कप जीता। तेंदुलकर ने कहा, यह बहुत ब़डी उपलब्धि है जिसके लिए एक टीम के रूप में बहुत क़डी मेहनत की जरूरत प़डती है। हम ऐसा करने में सफल रहे। उन्होंने खिलाि़डयों को निखारने के लिए उचित तरह का आधारभूत ढांचा मुहैया कराने के लिए बीसीसीआई की भी तारीफ की।तेंदुलकर ने कहा, उन्हें आधारभूत ढांचा देने के लिए बीसीसीआई को भी श्रेय जाता है। पिछले १५ वर्षों खेल का स्तर बदला है, क्षेत्ररक्षण का स्तर बदला है। यह बेहतर आधारभूत ढांचा और मैदान के उचित रखरखाव से ही संभव हो पाया है। यह मैदान पर परिलक्षित होता है। उन्होंने मुख्य कोच राहुल द्रवि़ड और सहयोगी स्टाफ के अन्य सदस्यों की भी तारी की।तेंदुलकर ने कहा, निसंदेह उनका अहम योगदान रहा। उन्होंने (द्रवि़ड) सहयोगी स्टाफ के साथ इसके लिए काम किया। स्वयं उन्होंने ऐसा कहा। राहुल, (कोच) पारस म्हाम्ब्रे और (क्षेत्ररक्षण कोच) अभय (शर्मा) भी इस उपलब्धि का हिस्सा रहे। इन सभी के लिए यह ब़डी उपलब्धि है।कोलकाता पुलिस के इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तेंदुलकर ने कहा कि यहां मैच खेलते हुए उन्होंने हमेशा खुद को सुरक्षित महसूस किया। उन्होंने कहा, हम कोलकाता आकर और यहां क्रिकेट खेलते हुए हमेशा सुरक्षित महसूस करते थे। मेरी यहां से कुछ अच्छी यादें जु़डी हैं। यह सब तभी संभव हो पाया क्योंकि आपने दर्शकों का ध्यान रखा और हमें सुरक्षा का अहसास कराया। मंच पर महान फुटबालर पी के बनर्जी भी बैठे थे। तेंदुलकर ने कहा, यह वास्तव में मेरे लिए सम्मान की बात है। उन्होंने (बनर्जी) ने कई पीि़ढयों को खेल को अपनाने और कुछ खास करने के लिए प्रेरित किया है। अगर हमारे पास इस तरह के नायक नहीं होते तो चीजें ऐसी नहीं होती।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List