आरपीएफ ने भर्ती किए 10,500 जवान, अब तक की सबसे बड़ी भर्ती

आरपीएफ ने भर्ती किए 10,500 जवान, अब तक की सबसे बड़ी भर्ती

रेलवे सुरक्षा बल

मुंबई/भाषा। भारतीय रेल ने रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) में 10,500 कर्मियों की भर्ती की है। इनमें से कांस्टेबल की 50 फीसदी सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित थीं।

एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि भर्ती प्रक्रिया पिछले साल मई में शुरू हुई थी और हाल ही में समाप्त हुई है। कुल 10,500 कर्मियों में 1,120 उप-निरीक्षक, 8,619 कांस्टेबल और 798 सहायक कर्मी पद पर भर्ती हुए हैं।

अधिकारी ने बताया कि आरपीएफ में महिला कांस्टेबल की संख्या महज 2.25 फीसदी है जिसे देखते हुए रेल मंत्रालय ने महिलाओं को सशक्त करने और इस बल में उनका प्रतिनिधित्व बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा महिलओं की भर्तियां करने को प्रमुखता दी।

केंद्रीय भर्ती समिति के अध्यक्ष अतुल पाठक ने कहा, आरपीएफ की सबसे बड़ी भर्ती में हमें 82 लाख से ज्यादा आवेदन मिले। इनमें से 14.25 लाख आवेदन उपनिरीक्षक पद के लिए मिले जबकि इस पद के लिए सिर्फ 1,120 सीटें हैं। वहीं कांस्टेबल के लिए 59 लाख लोगों ने आवेदन दिया था। इसके अलावा सहायक पद के लिए नौ लाख आवेदन मिले थे।

मौजूदा समय में पाठक प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त हैं। उन्होंने बताया कि उपनिरीक्षकों के कुल 1,120 पद पर 819 पुरुष और 301 महिलाओं की भर्ती हुई है। इसके अलावा 8,619 कांस्टेबल की भर्ती हुई जिनमें से 4,403 पुरुष और 4,216 महिलाएं हैं।

सभी सफल उम्मीदवारों के शारीरिक मापदंड और शारीरिक दक्षता परीक्षा हो चुकी है और अभी उनका पुलिस सत्यापन चल रहा है। पाठक ने बताया कि देश के कुल 400 केंद्रों में इन पदों के लिए लिखित परीक्षाएं आयोजित हुई थीं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

कांग्रेसी सिर्फ वादा करते हैं, उसे कभी पूरा नहीं करते: शाह कांग्रेसी सिर्फ वादा करते हैं, उसे कभी पूरा नहीं करते: शाह
शाह का आरोप- कांग्रेस ने ‘ग़रीबी हटाओ’ का नारा तो दिया, लेकिन ग़रीबों के लिए कोई काम नहीं किया
कर्नाटक के तेज विकास के लिए भाजपा की पूर्ण बहुमत की स्थिर सरकार बहुत जरूरीः मोदी
राहुल की प्रेसवार्ता पर भाजपा का पलटवार- आलोचना करने का अधिकार है, बेइज्जती करने का नहीं
कर्नाटकः कांग्रेस ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की, सिद्दरामैया, शिवकुमार को यहां से टिकट
संसद सदस्यता रद्द किए जाने के बाद क्या बोले राहुल गांधी?
गरीबों की सेवा को सर्वाेच्च लक्ष्य बनाकर भाजपा सरकार ने सही मायने में उन्हें सशक्त बनायाः मोदी
महंगी पड़ी टिप्पणी