गैंगस्टर विकास दुबे के किलेनुमा घर पर चला बुलडोजर

गैंगस्टर विकास दुबे के किलेनुमा घर पर चला बुलडोजर

कानपुर/दक्षिण भारत/भाषा। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के खिलाफ प्रशासन ने शनिवार को बड़ी कार्रवाई की। आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद फरार चल रहे विकास का बिकरू गांव स्थित किलेनुमा घर पुलिस ने बुलडोजर चलाकर ढहा दिया। इस काम में करीब दो घंटे लगे।

एक रिपोर्ट के अनुसार, इस कार्रवाई में विकास के घर में खड़ीं दो लग्जरी कारें और दो ट्रैक्टर नष्ट कर दिए गए। बताया गया है कि इस घर में अंडरग्राउंड बंकर पाया गया है। कुछ रिपोर्टों में चौंकाने वाली खबर आई है कि विकास दुबे की जब कॉल डिटेल संबंधी जांच की गई तो उसमें पुलिसकर्मियों के भी नंबर पाए गए। विकास पर 50,000 रुपए का इनाम रखा गया है। जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी।

वहीं, विकास को पकड़ने के लिए पुलिस की 25 से अधिक टीमें उत्तर प्रदेश और अन्य प्रदेशों में लगातार छापेमारी कर रही हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कुछ पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है ताकि यह जाना जा सके कि विकास को उसके घर पर पुलिस की छापेमारी के बारे में पहले से खबर कैसे लगी जिससे उसने पूरी तैयारी के साथ पुलिस दल पर हमला किया।

कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) मोहित अग्रवाल ने बताया, ‘विकास दुबे और उसके सहयोगियों को पकड़ने के लिए पुलिस की 25 टीमें लगाई गई हैं जो प्रदेश के विभिन्न जिलों के अलावा कुछ दूसरे प्रदेशों में भी छापेमारी कर रही हैं।’

हालांकि, उन्होंने कहा कि यह नहीं बताया जा सकता कि पुलिस की टीमें किन-किन जनपदों में और किन प्रदेशों में तलाशी अभियान चला रही है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि सर्विलांस टीम लगभग 500 मोबाइल फोन की छानबीन कर रही है और उससे विकास दुबे के बारे में सुराग लगाने का प्रयास कर रही है। इसके अलावा उप्र एसटीएफ की टीमें भी अपने काम में लगी हैं।

पुलिस के अनुसार मुठभेड़ में घायल सात पुलिसकर्मियों का कानपुर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है। जहां सभी की हालत स्थिर बतायी जा रही है। लखनऊ पुलिस ने शुक्रवार शाम को विकास दुबे के कृष्णानगर स्थित मकान पर भी छापा मारा था लेकिन वो वहां नही मिला।

गौरतलब है कि बृहस्पतिवार देर रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू निवासी कुख्यात अपराधी विकास दुबे को उसके गांव पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था जिसमें एक क्षेत्राधिकारी, एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए। मुठभेड़ में पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक घायल हैं।

पहली मुठभेड़ में अपराधी पुलिसकर्मियों के हथियार भी छीन ले गए, जिनमें एके-47 रायफल, एक इंसास रायफल, एक ग्लाक पिस्टल तथा दो नाइन एमएम पिस्टल शामिल हैं। इस मुठभेड़ के कुछ घंटे बाद हुई दूसरी पुलिस मुठभेड़ में पुलिस ने दो अपराधियों को मार गिराया था और उनके पास से लूटी गई एक पिस्टल भी बरामद की थी।

घटना के बाद शुक्रवार शाम कानपुर पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चौबेपुर थानाक्षेत्र में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी और घटना के लिए जिम्मेदार किसी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा। योगी ने शहीदों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का भी ऐलान किया था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News