भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों की खराब शुरुआत

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों की खराब शुरुआत

कुआलालंपुर। प्रणव जैरी चोप़डा और एन सिक्की रेड्डी की भारत की मिश्रित युगल जो़डी आज यहां सत्र के शुरुआती ३५०००० डॉलर इनामी मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर की बाधा को पार करने में विफल रही।सिक्की और प्रणव को ली चुन हेई रेगीनाल्ड और चाउ होइ वाहतो की हांगकांग की सातवीं वरीय जो़डी के खिलाफ १८-२१, १७-२१ से हार का सामना करना प़डा जिससे उनके अंतरराष्ट्रीय सत्र की शुरुआत निराशाजनक रही।भारत की प्राजक्ता सावंत और मलेशिया के योगेंद्रन कृष्णन की जो़डी हालांकि मिश्रित युगल के दूसरे दौर में प्रवेश करने में सफल रही। इस जो़डी को सवान सेरासिंघे और सेत्याना मपासा की ऑस्ट्रेलिया की जो़डी के खिलाफ वाकओवर मिला।पुरुष एकल क्वालीफायर में पी कश्यप को थाईलैंड के कंताफोन वांगचारियोन के खिलाफ १४-२१, १७-२१ से हार का सामना करना प़डा जबकि शुभंकर डे डेनमार्क के किम ब्रून से २१-११, ११-२१, ९-२१ से हार गए।महिला युगल क्वालीफायर में अपर्णा बालन और श्रुति केपी को ओंग रे नी और वोंग जिया यिंग क्रिस्टल की सिंगापुर की जो़डी के खिलाफ १२-२, २१-१८, १५-२१ से शिकस्त का सामना करना प़डा जबकि संयोगिता घोरप़डे और प्राजक्ता की जो़डी मलेशिया की च्यू सिएन लिम और झेन याप की जो़डी से २०-२२, १८-२१ से हार गई।बी साई प्रणीत कल कंतोफोन से भि़डेंगे जबकि अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी का सामना योहाना गोलिसजेवस्की और केईप्लेन लारा की जर्मनी की महिला युगल जो़डी से होगा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Advertisement

Latest News

कर्नाटक सरकार राज्य के अंदर और बाहर कन्नडिगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: बोम्मई कर्नाटक सरकार राज्य के अंदर और बाहर कन्नडिगों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध: बोम्मई
यहां पत्रकारों से बात करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों राज्यों के लोगों के बीच सद्भाव है
अफगानिस्तान: सड़क किनारे बम धमाका कर पेट्रोलियम कंपनी के 7 कर्मचारियों को बस समेत उड़ाया
भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर, विश्व बैंक ने वृद्धि दर अनुमान इतना बढ़ाया
सीमा विवाद: महाराष्ट्र के मंत्रियों के बेलगावी जाने की संभावना नहीं!
बाबरी विध्वंस के तीन दशक बाद अब क्या कहते हैं अयोध्या के लोग?
जनता की प्रतिक्रिया
गुजरात और हिप्र के एग्जिट पोल: भाजपा की सत्ता जारी या कांग्रेस की बारी?