राजीव चंद्रशेखर ने शशि थरूर पर लगाया यह आरोप, कानूनी नोटिस भी भेजा

नोटिस में दावा किया गया है कि थरूर के बयान चंद्रशेखर की प्रतिष्ठा और छवि को नुकसान पहुंचाने के इरादे से दिए गए थे

राजीव चंद्रशेखर ने शशि थरूर पर लगाया यह आरोप, कानूनी नोटिस भी भेजा

Photo: @Rajeev_GoI X account

तिरुवनंतपुरम/दक्षिण भारत। केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और इलेक्ट्रॉनिक्स राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर को कानूनी नोटिस भेजा है, जिसमें उन पर हाल ही में एक टीवी चैनल पर भाजपा नेता के खिलाफ अपमानजनक बयान देने का आरोप लगाया गया है।

आगामी चुनावों में तिरुवनंतपुरम लोकसभा क्षेत्र में थरूर के खिलाफ मुकाबला कर रहे चंद्रशेखर ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस सांसद ने भाजपा नेता द्वारा प्रमुख मतदाताओं और धर्मगुरुओं जैसे प्रभावशाली लोगों को रिश्वत देने के संबंध में 'स्पष्ट रूप से गलत जानकारी' प्रसारित की।

नोटिस में दावा किया गया है कि थरूर के बयान चंद्रशेखर की प्रतिष्ठा और छवि को नुकसान पहुंचाने के इरादे से दिए गए थे और उनकी टिप्पणियों ने तिरुवनंतपुरम के पूरे ईसाई समुदाय और उसके नेताओं पर कैश-फॉर-वोट गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाकर उनका अपमान किया है।

यह भी तर्क दिया गया है कि कांग्रेस सांसद के बयान आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन थे।

नोटिस में यह भी दावा किया गया कि बयानों का लक्ष्य भाजपा नेता के चुनाव अभियान को नुकसान पहुंचाना और साल 2024 के लोकसभा चुनावों में थरूर को फायदा पहुंचाना भी था।

कांग्रेस नेता को कानूनी नोटिस में मांग की गई है कि वे राजीव चंद्रशेखर के खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों को तुरंत वापस लें और प्रिंट वऔर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर उनसे बिना शर्त सार्वजनिक माफी मांगें।

इसमें कहा गया है कि नोटिस प्राप्त होने के 24 घंटे के भीतर बताई गईं शर्तों का पालन करने में विफल रहने पर सक्षम अदालत में उचित कार्यवाही शुरू की जाएगी।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस