कर्नाटक बजट 2024-25ः बेंगलूरु में संपत्तियों को मिलेगा डिजिटल स्वामित्व दस्तावेज

राज्य की राजधानी चालू वित्त वर्ष में 4300 करोड़ रुपए के रिकॉर्ड कर संग्रह की ओर बढ़ रही है

कर्नाटक बजट 2024-25ः बेंगलूरु में संपत्तियों को मिलेगा डिजिटल स्वामित्व दस्तावेज

राज्य सरकार ने भूमिगत सुरंगों का निर्माण करके शहर में यातायात की भीड़ को हल करने का निर्णय लिया है

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। मुख्यमंत्री सिद्दरामैया ने शुक्रवार को अपने बजट भाषण में कहा कि कर्नाटक सरकार बेंगलूरु में सभी 20 लाख संपत्तियों के संपत्ति कर रिकॉर्ड को डिजिटल बनाने और वित्तीय वर्ष 2024-25 से डिजिटल ई-खाता जारी करने की एक महत्वाकांक्षी परियोजना शुरू करेगी।

यह देखते हुए कि राज्य की राजधानी चालू वित्त वर्ष में 4300 करोड़ रुपए के रिकॉर्ड कर संग्रह की ओर बढ़ रही है, जो वर्ष 2022-23 से 1000 करोड़ रुपए अधिक है, सिद्दरामैया ने कहा कि वर्ष 2024-25 में लक्ष्य 6,000 करोड़ रुपए होगा।
उन्होंने कहा कि 6,000 करोड़ रुपए के राजस्व का यह लक्ष्य कर संग्रह प्रणाली में लीकेज को रोककर हासिल किया जाएगा।

सिद्दरामैया ने कहा कि इस वित्तीय वर्ष से संशोधित विज्ञापन नीतियों और प्रीमियम फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) नीति के माध्यम से 2000 करोड़ रु. के अतिरिक्त गैर-कर संसाधन जुटाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संसाधनों में वृद्धि, यातायात की भीड़ को कम करना, बेंगलूरु में गुणवत्तापूर्ण सड़कों का निर्माण और स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति वर्ष 2024-25 में कर्नाटक सरकार के फोकस के क्षेत्र हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार ने लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने और राज्य की राजधानी को एक विश्व स्तरीय शहर के रूप में विकसित करने के लिए निवेशकों को आकर्षित करने के लिए ब्रांड बेंगलूरु की संकल्पना की है। विभिन्न क्षेत्रों में बड़े सुधार पेश किए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘प्राथमिकता के आधार पर यातायात की भीड़ को कम करने के लिए, सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि 147 किलोमीटर लंबी प्रमुख सड़कों का व्हाइट-टॉपिंग या सीमेंट सड़क निर्माण दिसंबर 2025 तक पूरा हो जाएगा।’

मुख्यमंत्री ने कहा कि भूमि की कमी और भूमि अधिग्रहण में समस्याओं के कारण मौजूदा सड़कों का चौड़ीकरण मुश्किल था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पृष्ठभूमि में, राज्य सरकार ने भूमिगत सुरंगों का निर्माण करके शहर में यातायात की भीड़ को हल करने का निर्णय लिया है। पायलट आधार पर, इस वर्ष हेब्बल जंक्शन पर एक सुरंग का निर्माण किया जाएगा, जहां यातायात की भीड़ अधिक है।

उन्होंने बेंगलूरु में यातायात की भीड़ की ओर ध्यान देने और बड़े पैमाने पर आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए पेरिफेरल रिंग रोड (पीआरआर) को बेंगलूरु बिजनेस कॉरिडोर के रूप में पुनः स्थापित करने का प्रस्ताव दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परियोजना के तहत पीपीपी मॉडल के तहत 27,000 करोड़ रुपए की लागत से 73 किलोमीटर लंबी सड़क बनाने के लिए अनुरोध प्रस्ताव आमंत्रित किया गया है। इस प्रोजेक्ट को इसी साल शुरू करने का प्रस्ताव है।

सरकार ने बेंगलूरु को शहर का एक ऐतिहासिक पर्यटन स्थल बनाने के लिए 250 मीटर ऊंचा स्काईडेक बनाने की भी योजना बनाई है।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News