पंजीकृत मरीजों को 20 अप्रैल के बाद टेलीफोन पर परामर्श उपलब्ध कराएंगे एम्स के डॉक्टर

पंजीकृत मरीजों को 20 अप्रैल के बाद टेलीफोन पर परामर्श उपलब्ध कराएंगे एम्स के डॉक्टर

नई दिल्ली/भाषा। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने अपने यहां इलाज करा रहे मरीजों को टेलीफोन पर परामर्श उपलब्ध कराने का फैसला लिया है, ताकि देश में जारी लॉकडाउन (बंद) के दौरान उन्हें अस्पताल आने की कम जरूरत पड़े। मरीज इसके लिए ऑनलाइन पंजीयन करा सकते हैं और 20 अप्रैल से फोन पर चिकित्सीय सलाह ले सकते हैं।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ जारी जंग में अस्पताल अग्रिम मोर्चे पर है लेकिन यह गैर-कोविड मरीजों की चिकित्सा जरूरतों के प्रति भी सचेत है।

इसमें कहा गया है कि जिन मरीजों ने एम्स में पहले से पंजीयन करा रखा है, उन गैर-कोविड मरीजों को एम्स टेलीफोन पर परामर्श मुहैया कराएगा ताकि सामाजिक मेलजोल से दूरी के नियम पर अमल सुनिश्चित हो और लॉकडाउन के आदेशों का भी उल्लंघन नहीं हो।

बयान में कहा गया है कि वे सभी मरीज, जिनका नई दिल्ली स्थित एम्स में इलाज चल रहा है और जिन्हें दुबारा आने की सलाह दी गई थी, वे इस सुविधा के लिए अपना पंजीकरण करा सकते हैं। इसमें कहा गया है, ‘बताई गई तिथि को संबंधित विभाग के चिकित्सक इन मरीजों को फोन करेंगे और उन्हें उचित चिकित्सा सलाह देंगे।’

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

कांग्रेस को बड़ा झटका, इस सीट से उम्मीदवार का नामांकन पत्र हुआ खारिज कांग्रेस को बड़ा झटका, इस सीट से उम्मीदवार का नामांकन पत्र हुआ खारिज
Photo: @INCIndia X account
मोदी के नेतृत्व में अब वोटबैंक की नहीं, बल्कि रिपोर्ट कार्ड की राजनीति है: नड्डा
कभी विदेशों को जीतने के लिए आक्रमण नहीं किया, खुद में सुधार करके कमियों पर विजय पाई: मोदी
हुब्बली: नेहा की हत्या के आरोपी फैयाज के पिता ने कहा- ऐसी सजा मिलनी चाहिए, ताकि ...
पाकिस्तान में आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर के सैनिक और 2 सरकारी अधिकारियों की हत्या की
उच्च न्यायालय ने बीएच सीरीज वाहन पंजीकरण पर नई शर्तें लगाने वाले परिपत्र को रद्द किया
राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना