बंगाल में भाजपा बनाएगी बहुमत से सरकार, सत्तारूढ़ तृणमूल के पतन की हो चुकी शुरुआत: शाह

बंगाल में भाजपा बनाएगी बहुमत से सरकार, सत्तारूढ़ तृणमूल के पतन की हो चुकी शुरुआत: शाह

बंगाल में भाजपा बनाएगी बहुमत से सरकार, सत्तारूढ़ तृणमूल के पतन की हो चुकी शुरुआत: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पत्रकारों से वार्ता करते हुए

बांकुड़ा/दक्षिण भारत। पश्चिम बंगाल दौरे पर आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को कहा कि राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल सरकार के पतन की शुरुआत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि बंगाल में एक ओर ममता सरकार को लेकर भयंकर जनाक्रोश दिखाई पड़ता है तो दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति एक आशा और श्रद्धा दिखाई पड़ती है।

शाह ने कहा कि जिस प्रकार के दमन का चक्र, विशेषकर भाजपा के कार्यकर्ताओं पर ममता सरकार ने चलाया है, मैं निश्चित रूप से कह सकता हूं कि इसका आखिरी समय आ गया है और आने वाले दिनों में यहां भाजपा की सरकार दो तिहाई बहुमत से बनने जा रही है।

शाह ने कहा कि बंगाल के युवाओं को नौकरी, बंगाल के गरीबों को गरीबी से बाहर निकालने के लिए ममता सरकार को उखाड़कर फेंक दीजिए। उन्होंने कहा कि भाजपा को एक मौका बंगाल में दीजिए, हम आने वाले दिनों में यहां पर सोनार बांग्ला की रचना करने के लिए मोदीजी के नेतृत्व में भरसक प्रयास करेंगे।

बता दें कि गृह मंत्री शाह ने यहां क्रांतिकारी बिरसा मुंडा की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद पत्रकारों से वार्ता की और कहा, ‘कल रात से मैं पश्चिम बंगाल में हूं और ममता बनर्जी के खिलाफ लोगों की भारी नाराजगी महसूस कर सकता हूं। हमें नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राज्य में बदलाव लाने का पूरा भरोसा है।’

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

जम्मू-कश्मीर: अखनूर के पास बस दुर्घटनाग्रस्त, 15 लोगों की मौत जम्मू-कश्मीर: अखनूर के पास बस दुर्घटनाग्रस्त, 15 लोगों की मौत
श्रीनगर/दक्षिण भारत। जम्मू-कश्मीर में अखनूर के पास गुरुवार को एक बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इससे 15 लोगों की मौत हो...
ईडी के इस कदम से शाहजहां शेख और उसके साथियों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें!
क्या मोदी का विवेकानंद रॉक मेमोरियल जाकर ध्यान करना आचार संहिता का उल्लंघन होगा?
ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने भ्रष्टाचार में पीएचडी कर ली: मोदी
मोदी का रॉक मेमोरियल दौरा: भाजपा बोली- 'विपक्ष घबराया हुआ, उसे हार का डर'
धरती की परवाह किसे?
'भारतीय भाषाएं और एक भाषायी क्षेत्र के रूप में भारत' विषय पर सम्मेलन का उद्घाटन किया