मुख्यमंत्री के लिए मप्र में कमलनाथ के नाम का प्रस्ताव, राजस्थान में गहलोत-पायलट गुट में तनातनी

मुख्यमंत्री के लिए मप्र में कमलनाथ के नाम का प्रस्ताव, राजस्थान में गहलोत-पायलट गुट में तनातनी

sachin pilot and ashok gehlot

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर मोर्चाबंदी बढ़ती जा रही है। अभी तक मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा नहीं की गई है। वहीं जयपुर में कांग्रेस दफ्तर के बाहर अशोक गहलोत और सचिन पायलट के समर्थकों का जमावड़ा लगा हुआ है। दोनों ओर से नारेबाजी हो रही है। ऐसे में ऐहतियात के तौर पर पुलिस को तैनात किया गया है।

चूंकि अशोक गहलोत पूर्व में राजस्थान के दो बार मुख्यमंत्री रहे हैं और वे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं। सचिन पायलट कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष हैं और पार्टी को सत्ता तक लाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही हैं। दोनों के ही प्रशंसक उन्हें मुख्यमंत्री पद पर देखना चाहते हैं। दूसरी ओर, राजभवन में राज्यपाल कल्याण सिंह से कांग्रेस नेताओं का मुलाकात का समय बदल गया है। उन्हें अब रात 8 बजे राजभवन बुलाया गया है। इस दौरान उन्हें सरकार बनाने का दावा पेश करना होगा।

सचिन पायलट के एक समर्थक ने अपने खून से चिट्ठी लिखी है। उसने कहा है कि राजस्थान में कांग्रेस को 21 सीटों से सत्ता तक लाने वाले नेता सचिन पायलट हैं। लिहाजा उन्हें ही मुख्यमंत्री बनाया जाए। समर्थकों की इस खींचतान को देखते हुए दोनों गुटों में टकराव की आशंका भी जताई जा रही है। ऐसे में मामला आलाकमान पर ही छोड़ दिया गया है।

उधर मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कमलनाथ के नाम का प्रस्ताव रखा है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक खत्म हो गई है। इससे पहले भोपाल में पार्टी नेताओं की बैठक हुई, जिसमें प्रस्ताव पास कर आलाकमान को मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान करने की जिम्मेदारी सौंपी गई। बता दें कि पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम को लेकर काफी कयास लगाए जा रहे थे।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस