जयललिता का वीडियो रिलीज करना दिनाकरण की साजिश : जयकुमार

जयललिता का वीडियो रिलीज करना दिनाकरण की साजिश : जयकुमार

चेन्नई। तमिलनाडु की सत्तारू़ढ अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) ने दिवंगत मुख्यमंत्री जे जयललिता के अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान का कथित वीडियो जारी करने के लिए राज्य की सत्तारुढ पार्टी ने बुधवार को वीके शशिकला परिवार की आलोचना की और आरोप लगाया कि यह सत्तारुढ पार्टी की प्रतिष्ठा गिराने वाला कृत्य है और एक प्रकार की साजिश है जो कि गुरुवार को आरके नगर में होने वाले उपचुनाव को ध्यान में रखते हुए की गई है।राज्य के मत्स्य मंत्री डी जयकुमार ने बुधवार को चेन्नई में इस संबंध में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि शशिकला का परिवार हमेशा से हमारे नेता के लिए समस्याएं पैदा करता रहा है। एक बार फिर से उपचुनाव से पहले उनकी छवि को खराब करने के लिए यह साजिश रची गई है। इससे पार्टी के कार्यकर्ता काफी नाराज हैं। उन्होंेने कहा कि जो लोग पूर्व मुख्यमंत्री की छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं उन्हें राज्य की जनता कभी भी स्वीकार नहीं करेेगी।डी जयकुमार ने कहा कि शशिकला परिवार की ओर से यह कहा जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान लोगों को उनसे मिलने की अनुमति दी गई लेकिन यह सच नहीं है। डी जयकुमार ने कहा कि राज्य के किसी भी मंत्री के साथ ही केन्द्र सरकार ओर राज्य सरकार के अन्य गणमान्य लोगों को भी उनसे मिलने नहीं दिया गया। मंत्री ने चुनाव आयोग से मांग की है कि वह उपचुनाव से ठीक पूर्व इस प्रकार का वीडियो जारी करने के लिए टीटीवी दिनाकरण और उनके समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई करे। उन्होंने मांग की है कि इस वीडियो को सार्वजनिक करने वाले विधायक पी वेट्रिवेल को अयोग्य करार दिया जाए। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत को लेकर लगातार शंकाएं सामने आ रही थी और इस बात को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एक सदस्यीय आयोग का गठन किया है। जयकुमार ने कहा कि हमें उम्मीद है कि इस मामले की जांच कर रहे आयोग द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री की मौत के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां सामने लाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि आयोग द्वारा इस मामले की जांच पहले ही शुरु की जा चुकी है। इस मामले में डॉक्टरों, सेवानिवृत्त नौकरशाहों, पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के परिवार के सदस्यों और अन्य ऐसे लोगों को सम्मन भेजा गया है। इसके साथ ही शपथपत्र सौंपने वाले अन्य लोगों को भी आयोग द्वारा बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि दिनाकरण ने एक वीडियो जारी किया है और उसका कहना है कि उन्हें (जयललिता को) मिली जेड श्रेणी की सुरक्षा के तहत उनकी सुरक्षा मेें तैनात जवानों ने ही उनकी सुरक्षा में सेंध लगाते हुए यह वीडियो बनाया।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List