टीकाकरण पर राजनीति न हो, सरकार शत प्रतिशत टीकाकरण के लिए प्रतिबद्ध: मंडाविया

टीकाकरण पर राजनीति न हो, सरकार शत प्रतिशत टीकाकरण के लिए प्रतिबद्ध: मंडाविया

टीकाकरण पर राजनीति न हो, सरकार शत प्रतिशत टीकाकरण के लिए प्रतिबद्ध: मंडाविया

फोटो स्रोत: केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ​इंस्टाग्राम अकाउंट।

नई दिल्ली/भाषा। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि भारत सरकार केविड-19 के खिलाफ 18 वर्ष से अधिक आयु के शत प्रतिशत लोगों के शीघ्र टीकाकरण को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध है तथा इस विषय पर विपक्ष को राजनीति करने की बजाय एकसाथ मिलकर टीकाकरण अभियान को प्रोत्साहित करना चाहिए एवं भ्रम फैलाने वालों को जवाब देना चाहिए।

लोकसभा में शुक्रवार को प्रश्नकाल के दौरान पूरक प्रश्नों के उत्तर के दौरान स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि देश में कोविड-19 के संदर्भ में टीकाकरण को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए। कोविड संकट के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संघीय ढांचे के अनुरूप सामूहिक प्रयास पर बल दिया।

मंडाविया ने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों समेत राज्य सरकारों के साथ 20 बार चर्चा की और उन्होंने जो सुझाव दिये उसके अनुरूप समय समय पर कार्य योजना बदली।’ उन्होंने कहा कि कई राज्यों एवं विपक्षी दलों द्वारा सवाल उठाया जाता था कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है और इस विषय पर राज्यों को विश्वास में लेना चाहिए। राज्यों ने कहा था कि उन्हें भी टीका खरीदने की अनुमति मिलनी चाहिए।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि तब प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें कोई आपत्ति नहीं है और वे (राज्य) भी टीका खरीद सकते हैं। एक मई को ऐसी नीति बनी कि 25 प्रतिशत टीका राज्य खरीदें, 25 प्रतिशत निजी इकाई खरीदे और 50 प्रतिशत टीका केंद्र खरीदेगा। उन्होंने कहा, ‘तब भी हमने राज्यों से कहा कि उन्हें कोई मदद की जरूरत होगी, तब हमें बताएं। कुछ राज्यों ने निविदा भी निकाली । लेकिन टीका उत्पादन करने वाली कंपनियां सीमित थीं।’

मंडाविया ने कहा, ‘इस विषय पर कुछ लोगों ने राजनीति की, लेकिन हमने नहीं की।’ उन्होंने कहा कि सेरम इंस्टीट्यूट इंडिया और भारत बायोटेक दो कंपनियां देश में थी। माडर्ना ने भारत में पंजीकरण कराया और जॉनसन एंड जॉनसन के साथ प्रौद्योगिकी हस्तांतरण पर भी काम चल रहा है। फाइजर के साथ भी सरकार बात कर रही है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस बीच मुख्यमंत्रियों की बैठक में यह कहा गया कि उन्हें टीका नहीं मिल रहा है और केंद्र को 25 प्रतिशत टीका खरीद कर देना चाहिए। इसके अनुरूप नई नीति बनी कि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को नि:शुल्क टीका लगाया जाएगा।

मंडाविया ने कहा, ‘टीकाकरण के विषय पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। भारत सरकार सभी के शत प्रतिशत टीकाकरण को प्रतिबद्ध है । सभी लोगों को टीकाकरण को बढ़ावा देना चाहिए। सभी लोगों को भ्रम फैलाने वालों को मिलकर जवाब देना चाहिए। सभी लोगों को मिलकर जागरूक बनाना चाहिए।’

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News