युवाओं और कामकाजी आयु वर्ग की पसंदीदा ट्रेन बनी वंदे भारत एक्सप्रेस

रेलवे ने कहा कि हम यात्रियों को कुशल, सुरक्षित और आरामदेह यात्रा विकल्प मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं

युवाओं और कामकाजी आयु वर्ग की पसंदीदा ट्रेन बनी वंदे भारत एक्सप्रेस

इस ट्रेन के यात्रियों में देखा गया कि लगभग 20 प्रतिशत 18-24 वर्ष आयु वर्ग के हैं

हुब्बली/दक्षिण भारत। ट्रेन संख्या 20662 धारवाड़ - केएसआर बेंगलूरु वंदे भारत एक्सप्रेस कामकाजी आयु वर्ग के यात्रियों के लिए पसंदीदा विकल्प के रूप में उभरी है। हाल में किए गए एक नमूना आकार विश्लेषण में 62 प्रतिशत यात्री 25-59 वर्ष के आयु वर्ग के पाए गए हैं।

यह ट्रेन उत्तर कर्नाटक को बेंगलूरु के हलचल भरे आईटी हब से जोड़ती है। ट्रेन धारवाड़ से दोपहर 01:15 बजे प्रस्थान करती है और शाम 07:45 बजे केएसआर बेंगलूरु पहुंचती है। यह रास्ते में एसएसएस हुब्बली, दावणगेरे और यशवंतपुर में रुकती है।

वंदे भारत एक्सप्रेस इस खंड की अन्य ट्रेनों की तुलना में लगभग एक घंटा तेज़ है, जो इसे उनके दैनिक आवागमन के लिए बेहतर विकल्प बनाती है।

इस ट्रेन के यात्रियों में देखा गया कि लगभग 20 प्रतिशत 18-24 वर्ष आयु वर्ग के हैं। वहीं, लगभग 20 प्रतिशत 25-34 वर्ष आयु वर्ग के और लगभग 30 प्रतिशत 35-49 वर्ष आयु वर्ग के हैं, जो कि युवाओं में बढ़ती लोकप्रियता को दर्शाता है।

यह ट्रेन 360-डिग्री घूमने वाली सीटों, हर सीट के लिए टच-आधारित रीडिंग लाइट, स्वचालित प्लग दरवाजे, हर सीट के लिए मोबाइल चार्जिंग सॉकेट, जीपीएस-आधारित ऑडियोविजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन के लिए ऑनबोर्ड वाई-फाई, रिक्लाइनिंग एर्गोनोमिक सीटों से सुसज्जित है। यह बेहतर सवारी गुणवत्ता और कई अन्य सुविधाओं के लिए यात्रियों की पसंदीदा है।

रेलवे ने कहा कि हम यात्रियों को कुशल, सुरक्षित और आरामदेह यात्रा विकल्प मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सरकार ये 3 काम कर दे तो बीएसएनएल के आ जाएंगे अच्छे दिन! सरकार ये 3 काम कर दे तो बीएसएनएल के आ जाएंगे अच्छे दिन!
इन दिनों बीएसएनएल में सिम पोर्ट करवाने को इस तरह पेश किया जा रहा है, जैसे यह कोई 'स्वतंत्रता संग्राम'...
सिद्दरामैया ने विधानसभा सत्र से पहले की बैठक, मंत्रियों व अधिकारियों को दिया यह निर्देश
'एक पेड़ मां के नाम' जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का उपयुक्त जवाब: शाह
आर्मस्ट्रांग की हत्या के आरोपी के मुठभेड़ में खात्मे ने संदेह पैदा किया: पलानीस्वामी
46 साल बाद फिर से खोला गया जगन्नाथ मंदिर का 'रत्न भंडार'
डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला शख्स कौन था, उसके साथ क्या हुआ?
अपने मित्र डोनाल्ड ट्रंप पर हुए हमले से बहुत चिंतित हूं: मोदी