मेरी कार्य करने की शैली का समर्थन करें : स्टालिन

मेरी कार्य करने की शैली का समर्थन करें : स्टालिन

चेन्नई। लंबे समय से द्रमुक के कार्यवाहक अध्यक्ष एम के स्टालिन पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की सरकार और पार्टी चलाने के उनके प्रशासन की शैली के प्रशंसक रहे थे। स्टालिन अब अपनी पार्टी में जयललिता की शैली को लागू करना चाहते हैं। स्टालिन मौजूदा समय में अपने जिला स्तर के कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत कर रहे हैं और उनकी समस्याओं को सुन रहे हैं और ठीक उसी प्रकार की कार्यशैली अपनी पार्टी में लाना चाह रहे हैं जिस प्रकार जयललिता द्वारा अपनाई जाती थी। स्टालिन ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा है कि यदि वह पार्टी को मजबूत बनाना चाह रहे हैं तो उनकी कार्यशैली का समर्थन करें।उन्होंने कहा कि अनुशासनहीनता और पार्टी विरोधी गतिविधियों को अब के बाद कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, उन्होंने शुक्रवार को तेनी, तिरुनेलवेली और शिवगंगा जिलों के कार्यकर्ताओं से बातचीत की और इसके बाद उन्हें संबोधित करते हुए यह बातें कही। उन्होंने कहा कि पार्टी के कानूनी सलाहकार एन आर एलंगो की अध्यक्षता वाली एक समिति पार्टी के अंदरुनी विवादों और पार्टी में अपनी शक्ति बढाने के लिए कार्यकर्ताओं के बीच चल रहे संघर्ष की जांच करेगी।स्टालिन ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा मुझे अपनी बातचीत के दौरान जिला इकाइयों के सभी स्तरों से कई शिकायतें प्राप्त हुई हैं। पार्टी के विकास और सफलता के लिए, मुझे सर्वधिकारी होना चाहिए। एलंगो कमेटी सभी शिकायतों की जांच करेगी और साथ ही पार्टी के सदस्यों की शिकायतों की सच्चाई पता लगाएगी। उन्होंने जिला सचिवों या अन्य नेताओं के खिलाफ किसी भी प्रकार की झूठी शिकायत करने वाले कार्यकर्ताओं को भी चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि समिति उस व्यक्ति के पास जाएगी जिसने किसी नेता के खिलाफ शिकायत की है अगर शिकायत गलत साबित होती है तो शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। द्रमुक नेता ने इसके साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि इसके साथ ही मैा आपको आश्वासन दे सकता हूं कि वास्तविक शिकायतों का ऐसे तरीके से निपटारा किया जाएगा जो पार्टी के लिए फायदेमंद होगा। मैं उन लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई करने से निहीं हिचकूंगा जो मेरे करीबी हैं कोई भी नेता यह कहकर पार्टी कार्यकर्ताओं पर दबाव नहीं बना सकते कि वह मेरे करीबी हैं। प्रत्येक जिले में पार्टी के चार पदाधिकारी हैं जो निचले स्तर के पार्टी कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करते हें। अधिकांश शिकायतें को पंचायत स्तर के कार्यकर्ताओं से उनके वरिष्ठ पदाधिकारी और जिला सचिव के खिलाफ की गई हैं। ज्ञातव्य है कि पार्टी द्वारा गठित एलंगो कमेटी में पार्टी के कानूनी प्रकोष्ठ के कई अधिवक्ताओं को शामिल किया गया है। नेता ने कहा, समिति सभी पार्टी के अंदरुनी विवादों को समाधान करने का प्रयास करेगी। यह कमेटी स्टालिन द्वारा सभी जिलों के कार्यकर्ताओं से २२ मार्च तक बैठक पूरी करने के बाद अपने काम में जुटेगी। मौजूदा समय में स्टालिन पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं जहां हर दिन कम से कम १०० कार्यकर्ताओं द्वारा शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। यह सभी शिकायतों सीधे स्टालिन तक पहुंचाई जा रही है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी पहले की सरकारें ग्रामीण अर्थव्यवस्था की जरूरतों को टुकड़ों में देखती थीं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में भारत में दूध उत्पादन में करीब 60 प्रतिशत वृद्धि हुई है
ईडी ने अरविंद केजरीवाल को नया समन जारी किया
सीबीआई ने सत्यपाल मलिक के परिसरों सहित 30 से अधिक स्थानों पर छापे मारे
निवेश पर उच्च रिटर्न का वादा कर एक शख्स से 1.19 करोड़ रु. ठगे
नशे की प्रवृत्ति पर लगाम जरूरी
कर्नाटक सरकार ने अधिवक्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी पर उप-निरीक्षक को निलंबित किया
'हार रहे उम्मीदवारों को जिताया' ... पाक के चुनावों में 'धांधली' के आरोपों पर क्या बोला अमेरिका?