लिंगायत मुद्दे पर कर्नाटक में कांग्रेस का षड्यंत्र नहीं चलेगा : भाजपा

लिंगायत मुद्दे पर कर्नाटक में कांग्रेस का षड्यंत्र नहीं चलेगा : भाजपा

बेंगलूरु। कर्नाटक में लिंगायत समुदाय से जु़डे विवाद को भाजपा ने कांग्रेस का हिन्दुओं को बांटने और अल्पसंख्यकों के तुष्टिकरण का षड्यंत्र बताया और दावा किया कि प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी । भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं कर्नाटक मामलों के पार्टी प्रभारी मुरलीधर राव ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि कर्नाटक में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी। यह पूछे जाने पर कि कर्नाटक में लिंगायत समुदाय की, एक वर्ग की ओर से अलग धर्म घोषित करने की मांग को प्रदेश कांग्रेस, खास तौर पर मुख्यमंत्री सिद्दरामैया के समर्थन से भाजपा के लिये क्या चुनौतियां उत्पन्न हुई हैं, राव ने कहा कि उनकी (कांग्रेस) सम्पूर्ण राजनीति जाति, धर्म, पंथ के आधार पर लोगों को बांटने और तुष्टिकरण की राजनीति के माध्यम से सत्ता हासिल करने की अवधारणा पर आधारित है। कांग्रेस नेतृत्व एक तरफ हिन्दुओं को बांटने और दूसरी तरफ भय दिखाकर किसी न किसी तरह से अल्पसंख्यकों को एक रखने की नीति का अनुसरण कर रही है । इस रणनीति पर कांग्रेस वर्षो से चल रही है ।राव ने कहा कि लिंगायत समुदाय काफी समझदार और संगठित है। लिंगायत समुदाय को बांटने के पीछे कारण समाज और संत समझ चुके हैं। लिंगायत समुदाय को बांटने का कांग्रेस का षड्यंत्र नहीं चलेगा, यह बात कांग्रेस को स्पष्ट रूप से समझ लेनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि लिंगायत समाज को कर्नाटक की अग़डी जातियों में गिना जाता है। कर्नाटक की आबादी का १८ फीसदी लिंगायत हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता बी एस येड्डीयुरप्पा अभी लिंगायत समुदाय के कद्दावर नेता माने जाते हैं और लिंगायत समुदाय का झुकाव भी भाजपा की ओर माना जाता है। आगामी विधानसभा चुनावों में येड्डीयुरप्पा को एक बार फिर से मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करने का एक प्रमुख कारण भी लिंगायत समाज में उनका मजबूत जनाधार माना जाता है। समझा जाता है कि लिंगायतों के लिए अलग धार्मिक पहचान की मांग उठने को कांग्रेस राज्य में येड्डीयुरप्पा के जनाधार को तो़डने के मौके के रूप देख रही है। ्यफ्सद्यय्द्बस्द्भय् फ्द्य·र्ैंय्द्य फ्द्धफ्ष्ठ द्नश्नलट्टत्रद्बयेड्डीयुरप्पा सहित कुछ नेताओं पर कानून अनुपालन एजेंसियों की कार्रवाई के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कानून अपना काम करता ही है। मुरलीधर राव ने आरोप लगाया कि सुशासन और विकास के मुद्दे पर कांग्रेस के पास कहने के लिये कुछ नहीं है और सिद्दरामैया के नेतृत्व वाली सरकार भ्रष्टतम सरकार है और उसकी दृष्टि विकास से कोसों दूर है। इसलिए कर्नाटक में वह नकारात्मक राजनीति के आसरे है। यह पूछे जाने पर कि एस एम कृष्णा समेत कांग्रेस के कुछ नेताओं के भाजपा में शामिल होने से पार्टी को किस प्रकार के लाभ मिलने की उम्मीद है, मुरलीधर राव ने कहा कि कृष्णा एक भूतपूर्व मुख्यमंत्री हैं और बहुत वर्षो से राजनीतिक धरातल पर मजबूत नेता रहे हैं जिसका समाज और अनेक वर्गो पर प्रभाव रहा है। इसके अलावा भी कई नेता भाजपा में शामिल हुए हैं। इसका सबसे अधिक मनोवैज्ञानिक प्रभाव कांग्रेस पर प़ड रहा है कि उसके ब़डे नेता पार्टी छो़ड रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता कांग्रेस को इसलिए छो़ड रहे हैं क्योंकि वे समझ गए हैं कि कांग्रेस डूबने वाली नाव है । यह यथार्थ है और कर्नाटक में कांग्रेस नेताओं को यह बात स्पष्ट रूप से समझ में आ रही है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List