ममता दीदी को जो करना है कर लें, शरणार्थियों को नागरिकता देकर रहेगी भाजपा: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री ने प. बंगाल के घाटाल में भाजपा की चुनावी जनसभा को संबोधित किया

ममता दीदी को जो करना है कर लें, शरणार्थियों को नागरिकता देकर रहेगी भाजपा: शाह

शाह ने कहा कि इंडि गठबंधन नेतृत्वहीन है, इसके किसी भी नेता में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता नहीं है

घाटाल/दक्षिण भारत। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को पश्चिम बंगाल के घाटाल में भाजपा की चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस चुनाव में दो खेमे हैं। एक ओर भाजपा और राजग के साथी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ रहे हैं। दूसरी ओर इंडि गठबंधन है, जिसमें तृणकां, कांग्रेस और कम्युनिस्ट शामिल हैं।

शाह ने कहा कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनाएं, उसके बाद तृणकां के गुंडों को आपके ऊपर किए गए अत्याचारों की सजा दी जाएगी। एक तरफ, आपके पास मोदी हैं, जिन्होंने 140 करोड़ भारतीयों को अपना परिवार माना। दूसरी तरफ, आपके पास ऐसे लोगों का गठबंधन है, जो वंशवाद के आधार पर अपनी पार्टी चलाते हैं।

शाह ने कहा कि जो लोग अपने उत्तराधिकारियों को अगला प्रधानमंत्री बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, वे कभी भी आपकी और आपके परिवार की परवाह नहीं कर सकते। कांग्रेस कहती है कि पाकिस्तान के पास एटम बम है, पीओके को छोड़ दें। मैं कांग्रेस वालों से कहना चाहता हूं कि आपको डरना है तो डरिए। हम भाजपा वाले, एटम बम से नहीं डरते। पीओके भारत का है, रहेगा और हम उसे लेकर रहेंगे

शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी बांग्लादेश से आए हुए शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए सीएए लेकर आए, लेकिन ममता बनर्जी घुसपैठियों के कारण इसका विरोध कर रही हैं। मैं आज कहकर जाता हूं- ममता दीदी, आपको जो करना है कर लें, लेकिन भाजपा शरणार्थियों को नागरिकता देकर रहेगी।

शाह ने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी ने केवल कटमनी, भ्रष्टाचार, सिंडिकेट राज, घुसपैठ, कोयला तस्करी, गाय तस्करी को बढ़ावा देने और बम धमाके कराने का काम किया है। एक बार आप भाजपा की सरकार बना दें, इन सभी पर रोक लगाकर मोदी अपने बंगाल को सोनार बांग्ला बनाएंगे। बम के धमाके का जवाब आपको बैलेट से देना है और लाठी का जवाब लोकतंत्र से देना है।

शाह ने कहा कि इंडि गठबंधन नेतृत्वहीन है। इसके किसी भी नेता में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता नहीं है। न ही इनके पास भारत के लिए कोई एजेंडा है। ममता बनर्जी, 'मां-माटी-मानुष' के नारे के साथ सत्ता में आई थीं, लेकिन यह नारा अब ... मदरसा और माफिया में बदल गया है। सत्यजीत रे ने एक फिल्म बनाई थी - 'हीरक राजार देशे।' अगर वे आज होते तो 'हीरक रानी' नाम की फिल्म बनाते।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List