बेंगलूरु: भव्य प्रवेश द्वार और सैम मानेकशॉ की प्रतिमा का अनावरण किया

मेजर जनरल रवि मुरुगन के नेतृत्व में यह परियोजना आठ सप्ताह में पूरी हुई

बेंगलूरु: भव्य प्रवेश द्वार और सैम मानेकशॉ की प्रतिमा का अनावरण किया

यह गेट अनुशासन का प्रतीक है

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। बेंगलूरु के परेड ग्राउंड में लेफ्टिनेंट जनरल केएस बरार ने फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ को समर्पित भव्य प्रवेश द्वार और प्रतिमा का अनावरण किया। उन्होंने अपने संबोधन में इतिहास को संरक्षित करने, फील्ड मार्शल मानेकशॉ की उपलब्धियों और राष्ट्रीय महत्त्व की घटनाओं पर प्रकाश डाला।

मेजर जनरल रवि मुरुगन के नेतृत्व में यह परियोजना आठ सप्ताह में पूरी हुई। 66 फीट चौड़ा और 20 फीट ऊंचा यह गेट अनुशासन का प्रतीक है। यह आकर्षक वास्तुशिल्प का उदाहरण है, जिसमें आधुनिक डिजाइन के साथ परंपरा का सहज मिश्रण है।

gate

विशाल गेट के मध्य में फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ की 7 फीट की लोहे के फ्रेम वाली प्रतिमा है, जिसके पार्श्व में दक्षिणी कमान और कर्नाटक व केरल उपक्षेत्र का प्रतीक चिह्न लगा हुआ है। शानदार शिल्प कौशल के साथ यह प्रतिमा उनके दृढ़ नेतृत्व को दर्शाती है और राष्ट्र के लिए उनके अमूल्य योगदान की याद दिलाती है। गेट के शीर्ष पर क्रेस्ट सेना के मूल्यों, लोकाचार और भावना को दर्शाती है। 

उद्घाटन समारोह में गणमान्य व्यक्तियों, सैन्य अधिकारियों और स्थानीय समुदाय के सदस्यों ने भाग लिया। उद्घाटन के बाद मुख्य अतिथि ने आर्मी पब्लिक स्कूल कामराज रोड, राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल बेंगलूरु और अन्य की मार्चिंग टुकड़ियों को पुरस्कार दिए। इन टुकड़ियों ने परेड ग्राउंड पर आयोजित गणतंत्र दिवस परेड में भाग लिया था और जीत हासिल की थी।

Google News

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News