बेंगलूरू में औपनिवेशिक विरासत वाले सरकारी संस्थानों, सार्वजनिक स्थानों के नाम बदले जाएं : भाजपा सांसद

बेंगलूरू में औपनिवेशिक विरासत वाले सरकारी संस्थानों, सार्वजनिक स्थानों के नाम बदले जाएं : भाजपा सांसद

पीसी मोहन ने इस संबंध में भाजपा सांसद ने मुख्यमंत्री बोम्मई को पत्र लिखा


बेंगलूरू/दक्षिण्ा भारत/ मध्य बेंगलुरु से लोकसभा सदस्य पीसी मोहन ने बुधवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई से अनुरोध किया कि वे उनके निर्वाचन क्षेत्र में औपनिवेशिक विरासत वाले सरकारी संस्थानों और सार्वजनिक स्थानों का नाम राज्य के स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखें। भाजपा सांसद ने इस संबंध में बोम्मई को पत्र लिखा है।

मोहन ने पत्र साझा करते हुए ट्वीट किया, 'बेंगलूरू मध्य लोकसभा क्षेत्र में सरकारी संस्थानों और सार्वजनिक स्थानों के नाम औपनिवेशिक विरासत की निशानी हैं। मैं मुख्यमंत्री श्री बसवराज बोम्मई से भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अनगिनत नायकों का सम्मान करते हुए इन स्थानों का नाम कर्नाटक के स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखने का अनुरोध करता हूं। पत्र में उन्होंने तीन सरकारी अस्पतालों बॉरिंग और लेडी कर्जन, विक्टोरिया और मिंटो के साथ-साथ एवेन्यू, लावेल और कनिंघम जैसी प्रमुख सड़कों का उल्लेख किया।

मोहन ने अंग्रेजों पर भारत की संपत्ति को लूटने का आरोप लगाते हुए कहा कि स्वतंत्र भारत में ब्रिटिश अधिकारियों के नाम वाली सरकारी इमारतें और सड;कें 'गुलामी' की निशानी हैं। 

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List