औरंगाबाद: भाजपा-शिवसेना ने असंतुष्ट विधायकों को नामांकन वापस लेने के लिए मनाया

औरंगाबाद: भाजपा-शिवसेना ने असंतुष्ट विधायकों को नामांकन वापस लेने के लिए मनाया

भाजपा एवं शिवसेना

औरंगाबाद/भाषा। महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा और शिवसेना ने अपने असंतुष्ट नेताओं को दोनों पार्टियों के आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ औरंगाबाद से दाखिल अपने अपने नामांकन वापस लेने के लिए राजी कर लिया है।

सोमवार को नामांकन वापस लेने का अंतिम दिन था। इसी दिन भाजपा के मंत्री अतुल सावे, निवर्तमान विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बगाड़े तथा अन्य आधिकारिक उम्मीदवारों के खिलाफ नामांकन दाखिल करने वाले असंतुष्टों ने अपने नामांकन वापस ले लिए।

सावे औरंगाबाद (पूर्व) विधानसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार हैं, वहीं बगाड़े फूलंबरी सीट से चुनाव मैदान में हैं। नेताओं के समझाने-बुझाने के बाद शिव सेना की रेणुकादास वैद्य ने औरंगाबाद (पूर्व) से सावे के खिलाफ अपना नामांकन वापस ले लिया।

सावे ने कहा, भाजपा और शिवसेना मिल कर चुनाव लड़ रहे हैं। इसलिए दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं को मिल कर काम करना चाहिए। हमने असंतुष्ट उम्मीदवारों को मनाने की भरसक कोशिश की और हम सफल रहे। इससे गठबंधन को औरंगाबाद में ज्यादा से ज्यादा वोट मिल सकेंगे।

उन्होंने कहा कि वे भाजपा कार्यकर्ता राजू शिंदे को नामांकन वापस लेने में मनाने मे सफल नहीं हुए जिन्होंने औरंगाबाद (पश्चिम) सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया है। इस सीट से शिव सेना के संजय श्रीसत चुनाव मैदान में हैं।

भाजपा अपने शहर इकाई के उपाध्यक्ष बालासाहेब गायकवाड़ को नामांकन वापस लेने के लिए मनाने में सफल रही। उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा दाखिल किया था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी सपा-कांग्रेस के 'शहजादों' को अपने परिवार के आगे कुछ भी नहीं दिखता: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था
केजरीवाल का शाह से सवाल- क्या दिल्ली के लोग पाकिस्तानी हैं?
किसी युवा को परिवार छोड़कर अन्य राज्य में न जाना पड़े, ऐसा ओडिशा बनाना चाहते हैं: शाह
बेंगलूरु हवाईअड्डे ने वाहन प्रवेश शुल्क संबंधी फैसला वापस लिया
जो काम 10 वर्षों में हुआ, उससे ज्यादा अगले पांच वर्षों में होगा: मोदी
रईसी के बाद ईरान की बागडोर संभालने वाले मोखबर कौन हैं, कब तक पद पर रहेंगे?
'न चुनाव प्रचार किया, न वोट डाला' ... भाजपा ने इन वरिष्ठ नेता को दिया 'कारण बताओ' नोटिस