अमित शाह के खिलाफ शंकर सिंह वाघेला को चुनाव लड़ाने का सुझाव

अमित शाह के खिलाफ शंकर सिंह वाघेला को चुनाव लड़ाने का सुझाव

अहमदाबाद/वार्ता। गुजरात में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष जयंत पटेल उर्फ जयंत बोस्की ने दावा किया उन्होंने पार्टी आलाकमान को गांधीनगर लोकसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला जैसे दिग्गज और अनुभवी व्यक्ति को उतारने का सुझाव दिया है।

बोस्की ने यूएनआई से कहा कि श्री वाघेला पूर्व में गांधीनगर के सांसद रह चुके हैं (वर्ष 1989में भाजपा के टिकट पर) और वे वहीं रहते भी हैं। उन्हें खासा अनुभव है और वह ऐसे कद्दावर नेता है जो शाह को चुनौती दे सकते हैं।बोस्की ने दावा किया आलाकमान ने उनके सुझाव को सकारात्मकता से लिया है और जल्द ही इस संबंध में औपचारिक घोषणा हो सकती है।

ज्ञातव्य है कि वाघेला ने गत २९ जनवरी को राकांपा का दामन थामा था और उन्हें इसका राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया था। उधर, वाघेला के करीबी सूत्रों ने बताया कि उनके नेता को आलाकमान ने चुनाव ल़डने के बारे में कोई निर्देश नहीं दिया है। सूत्रों ने बताया कि श्री वाघेला ने हाल में स्पष्ट कर दिया था कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगे और वह अपने उसी निर्णय पर कायम हैं।

भाजपा का गढ़ माने जाने वाले गांधीनगर सीट पर पार्टी 1989 से अब तक लगातार काबिज है। वहां लालकृष्ण आडवाणी छह बार सांसद रह चुके हैं जबकि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी भी वहां से सांसद रह चुके हैं।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा आज सब्जी बेचने वाला भी डिजिटल पेमेंट लेता है, यह बदलता भारत है: नड्डा
नड्डा ने कहा कि लालू यादव, तेजस्वी और राहुल गांधी कहते थे कि भारत तो अनपढ़ देश है, गांव में...
राजकोट: गेमिंग जोन में आग मामले में अब तक पुलिस ने क्या कार्रवाई की?
पीओके भारत का है, उसे लेकर रहेंगे: शाह
जैन मिशन अस्पताल द्वारा महिलाओं के लिए निःशुल्क सर्वाइकल कैंसर और स्तन जांच शिविर 17 जून तक
राजकोट: गुजरात उच्च न्यायालय ने अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लिया, इसे मानव निर्मित आपदा बताया
इंडि गठबंधन वालों को देश 'अच्छी तरह' जान गया है: मोदी
चक्रवात 'रेमल' के बारे में आई यह बड़ी खबर, यहां रहेगा ज़बर्दस्त असर