कोरोना को हराने के लिए सोशल मीडिया को बनाया हथियार, धर्मेंद्र बने 25 कश्मीरी छात्रों के लिए मददगार

कोरोना को हराने के लिए सोशल मीडिया को बनाया हथियार, धर्मेंद्र बने 25 कश्मीरी छात्रों के लिए मददगार

वरिष्ठ भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- ‘इंदौर में कोरोना ने असर ज्यादा दिखाया तो उसे हराने के लिए भी लोग खड़े हो गए’

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। लॉकडाउन में सोशल मीडिया सिर्फ एक-दूसरे के हालचाल जानने और भावनाएं व्यक्त करने का मंच ही नहीं, बल्कि जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाने का असरदार जरिया भी साबित हो रहा है। देशभर में ऐसी कई घटनाएं सामने आई हैं जब किसी ने सोशल मीडिया पर अपनी बात कही और उस तक मदद पहुंची।

मूलत: आगरा एवं हाल दिल्ली निवासी धर्मेंद्र छोनकर सोशल मीडिया का इस्तेमाल लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए बखूबी कर रहे हैं। इसके जरिए उन्होंने इंदौर में पढ़ाई कर रहे 25 कश्मीरी छात्रों तक राशन पहुंचाया। साथ ही उनके लिए रसोई गैस का प्रबंध भी किया।

धर्मेंद्र बताते हैं कि वे ‘माय होम इंडिया’ नामक सामाजिक संस्था से जुड़े हुए हैं जो लॉकडाउन में कई लोगों तक सहायता पहुंचा चुकी है। जब से देश में कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लॉकडाउन की घोषणा की गई है, उनके पास कई लोगों ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी आवाज पहुंचाई।

कश्मीरी छात्रों तक पहुंचाई गई सामग्री

धर्मेंद्र ने कहा कि इस समय सोशल मीडिया बहुत उपयोगी साबित हो रहा है। हमारे पास ट्विटर पर यह अनुरोध आया था कि इंदौर के खजराना इलाके में रहने वाले 25 कश्मीरी छात्र राशन खत्म होने की वजह से तकलीफ में हैं। पहले उन्हें अपने घरों से राशि मिल रही थी, लेकिन मौजूदा हालात में वह भी नहीं पहुंच रही थी, इसलिए वे दुकान से सामान नहीं खरीद पा रहे थे। इसके अलावा गैस सिलेंडर खत्म हो गया था। इस तरह मुश्किलें बढ़ती जा रही थीं।

आखिर में सोशल मीडिया के माध्यम से धर्मेंद्र को यह सूचना मिली तो उन्होंने आटा, चावल, दाल, सब्जी, मसाले और राशन का जरूरी सामान पहुंचाया। धर्मेंद्र ने बताया कि कश्मीरी भाइयों के लिए डिजिटल पेमेंट कर रसोई गैस का इंतजाम किया गया। इससे उन्हें राहत मिली। वहीं, सोशल मीडिया पर धर्मेंद्र की पहल को सराहा जा रहा है।

वरिष्ठ भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, ‘सराहनीय कार्य.. इंदौर में यदि कोरोना वायरस ने अपना असर ज्यादा दिखाया तो उसे हराने के लिए भी लोग खड़े हो गए।’

https://platform.twitter.com/widgets.js

धर्मेंद्र कहते हैं कि सोशल मीडिया की ताकत को समझते हुए इसका सदुपयोग किया जाए तो यह बहुत मददगार साबित हो सकता है। संस्था देशभर में हर जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर लॉकडाउन में किसी कश्मीरी विद्यार्थी को राशन सामग्री संबंधी दिक्कत है तो वे उन तक मदद पहुंचाने का पूरा प्रयास करेंगे।

कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लॉकडाउन के बारे में धर्मेंद्र ने कहा कि इस अवधि में हर नागरिक नियमों का पालन करते हुए अपने स्तर पर प्रयास करे। हमारे द्वारा बरती जा रही सावधानी और सामूहिक सहयोग की भावना से कोरोना हारेगा और भारत जीतेगा।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी इस बार तृणकां और इंडि वालों के बड़े-बड़े किले ध्वस्त होने वाले हैं: मोदी
प्रधानमंत्री ने कहा कि सीपीएम और तृणकां ... पार्टियां दो, दुकान एक, सामान भी एक
'अग्निवीर': राहुल के बयान पर तेजस्वी सूर्या का जवाब- 'जिन्होंने अपने पूरे जीवन में .. एक भी दिन ...'
एसआईटी तय करेगी कि प्रज्ज्वल को कहां गिरफ्तार किया जाए: डॉ. जी परमेश्वर
बांग्लादेशी सांसद के मामले में जासूसी विभाग के प्रमुख ने किए कई बड़े खुलासे
इंडि गठबंधन भ्रष्टाचारियों का जमावड़ा है: नड्डा
कर्नाटक: बीवाई विजयेंद्र बोले- कांग्रेस सरकार की एक साल की उपलब्धियां शून्य हैं
चुनाव नतीजों में विपक्षी दलों के उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो जाएंगी: रवि किशन