उप्र: भजन गायक अजय पाठक और परिवार की मौत की जांच के लिए एसआईटी गठित

उप्र: भजन गायक अजय पाठक और परिवार की मौत की जांच के लिए एसआईटी गठित

भजन गायक अजय पाठक

मुजफ्फरनगर/भाषा। पड़ोसी शामली जिले में एक भजन गायक और उनके परिवार की मौत की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया गया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी।

स्थानीय लोगों ने इस मामले को सुलझाने में हो रही देरी के खिलाफ प्रदर्शन किया था जिसके बाद शुक्रवार को आदर्श मंडी पुलिस थाना प्रभारी निरीक्षक करमवीर सिंह के नेतृत्व में चार सदस्यीय टीम का गठन किया गया।

शामली के पुलिस अधीक्षक विनीत कुमार जायसवाल ने संवाददाताओं को बताया कि एसआईटी ने जांच आरंभ कर दी है और आरोपी हिमांशु सैनी को पुलिस हिरासत में ले लिया गया है।

भजन गायक अजय पाठक, उनकी पत्नी नेहा (36) और उनकी पुत्री वसुंधरा (12) की 31 दिसंबर को पंजाबी कॉलोनी स्थित उनके आवास पर तलवार से हमला करके हत्या कर दी गई थी।

शामली से करीब 40 किलोमीटर दूर हरियाणा के पानीपत में एक दिन बाद अजय पाठक के लापता पुत्र भागवत (10) का शव एक कार में मिला था। शव पर जलने के निशान मिले हैं।

पुलिस ने बताया था कि 30 वर्षीय सैनी पाठक से संगीत सीखा करता था। उसे पानीपत से गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने बताया कि सैनी ने स्वीकार किया है कि उसने पाठक के साथ किसी वित्तीय विवाद को लेकर इस अपराध को अंजाम दिया।

पुलिस ने बताया कि आरोपी ने चारों की हत्या के लिए एक तलवार का इस्तेमाल किया और वह लड़के का शव ठिकाने लगाने के लिए पानीपत लाया था।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना राहुल ने फिर उठाया 'जाति और आबादी' का मुद्दा, कहा- सरकार नहीं चाहती 'भागीदारी' बताना
Photo: IndianNationalCongress FB page
बेंगलूरु में बोले मोदी- कांग्रेस ने टैक्स सिटी को टैंकर सिटी बना दिया
भाजपा के 'न्यू इंडिया' में असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाती हैं: प्रियंका वाड्रा
कांग्रेस एक ऐसी बेल, जिसकी अपनी न कोई जड़ और न जमीन है: मोदी
जो वोटबैंक के लालच के कारण रामलला के दर्शन नहीं करते, उन्हें जनता माफ नहीं करेगी: शाह
इंडि गठबंधन वालों को इस चुनाव में लड़ने के लिए उम्मीदवार ही नहीं मिल रहे: मोदी
नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता दस वर्ष बाद भी बरकरार है: विजयेन्द्र येडीयुरप्पा