किसानों को भुगतान समय से हो : शिवराज

किसानों को भुगतान समय से हो : शिवराज

भोपाल/वार्तामध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए हैं कि सभी जिलों में आवश्यकतानुसार नवीन उपार्जन केन्द्र खोले जायें और किसानों को भुगतान समय से हो। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक चौहान ने कहा कि उपार्जन कार्य की लगातार मानीटरिंग की जाए। उपार्जन के दौरान किसान हितैषी दृष्टिकोण रखा जाए। मुख्यमंत्री चौहान आज यहाँ वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश में चल रहे गेहूँ, चना, मसूर और सरसों के उपार्जन की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्जयंत मलैया, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विश्वास सारंग और मुख्य सचिव बीपी सिंह भी उपस्थित थे।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसानों को समय से एसएमएस मिले तथा खरीदी केन्द्र पर उपार्जन सुनिश्चित किया जाए। उपार्जन के बाद शीघ्र परिवहन किया जाए। यह सुनिश्चित करें कि किसानों को खरीदी के तीसरे दिन भुगतान मिले। किसी कारण से एसएमएस से सूचना के बाद निर्धारित दिन पर किसान नहीं आ पाता है तो उन्हें दोबारा एसएमएस किया जाए। खरीदी, परिवहन और किसान को भुगतान की लगातार मानीटरिंग की जाए। उपार्जन केन्द्रों पर एक प्रशासनिक अधिकारी की ड्यूटी लगायें। ओला प्रभावित और सूखे से प्रभावित किसानों को राहत राशि मिलना शेष नहीं रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर उपार्जन कार्य के साथ भुगतान की स्थिति की प्रतिदिन समीक्षा करें। प्रभारी मंत्री भी प्रतिदिन उपार्जन कार्य की मानीटरिंग करेंगे। इस दौरान बताया गया कि उपार्जन के लिए किसानों को एसएमएस भेजने की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था की गई है। खरीदी केन्द्रों पर तौल व्यवस्था का सुदृ़ढीकरण किया गया है। प्रदेश में अब तक ४५ लाख मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया है। गेहूँ, चना, मसूर, सरसों को मण्डियों में बेचने वाले किसानों को भी मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना में प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News