निर्भया मामला: चारों दोषियों के पुतलों को तिहाड़ी में फांसी दी गई

निर्भया मामला: चारों दोषियों के पुतलों को तिहाड़ी में फांसी दी गई

निर्भया मामले के दोषी

नई दिल्ली/भाषा। तिहाड़ जेल में सोमवार को निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्याकांड में मृत्युदंड पाए चार दोषियों के पुतलों को फांसी देने की औपचारिकता पूरी की गई। जेल प्रशासन ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दोषियों को फांसी देने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरणों का परीक्षण करने के लिए जेल अधिकारियों द्वारा तीसरी बार पुतलों को फांसी दी गई है।

अधिकारियों ने बताया कि यह पूरी प्रकिया सोमवार को दोपहर में की गई और अगले कुछ दिनों तक इसे दोहराया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि फांसी में इस्तेमाल होने वाली रस्सी उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले से मंगाई गई है। जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कैदियों के वजन के अनुसार बोरों में गेहूं और बालू भरकर पुतले बनाए गए थे।

दिल्ली की एक अदालत ने 17 जनवरी को विनय शर्मा (26), अक्षय कुमार सिंह (31), मुकेश कुमार सिंह (32) और पवन (26) को एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी देने का आदेश जारी किया था। लंबित याचिकाओं के कारण 22 जनवरी को होने वाली फांसी को स्थगित कर दिया गया था।

उन्होंने बताया, हम फांसी से पहले उसमें इस्तेमाल होने वाली चीजों की गुणवत्ता की जांच कर रहे हैं। तीन दिन के बाद जल्लाद को भी बुला लिया जाएगा। दोषियों के पास अपने परिवार से आखिरी बार मिलने के बारे में निर्णय करने के लिए तीन-चार दिन का समय है।

सूत्रों ने बताया कि दिन में अक्षय कुमार सिंह की पत्नी, मां और भतीजा जेल में उससे मिलने आए। उन्होंने बताया कि फांसी से पहले अभी तक उनके पास अपने परिवार से आखिरी बार मिलने का मौका है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

वक्त की जरूरत वक्त की जरूरत
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा चुनाव के लिए जो 'संकल्प-पत्र' जारी किया है, वह लोगों में आशाएं तो जगाएगा...
पाकिस्तान में मारा गया सरबजीत का हत्यारा, अज्ञात हमलावरों ने किया ढेर
राम नवमी पर भगवान श्रीराम को चढ़ाएंगे इतने लड्डुओं का भोग!
चुनाव आ रहा है तो मोदी रसोई गैस सिलेंडर के दाम कम करने की बातें कर रहे हैं: प्रियंका वाड्रा
दपरे ने स्टेशनों पर पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करने के प्रयास तेज किए
'हताश' कांग्रेस ऐसी घोषणाएं कर रही, जो उसके नेताओं को ही समझ नहीं आ रहीं: मोदी
भाजपा के घोषणा-पत्र में सिर्फ दो बार 'जॉब्स' का जिक्र, जबकि बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या: श्रीनेत