मोदी सरकार की सख्ती, बीते पांच वर्षों में 96 भ्रष्ट अधिकारियों को दी गई समयपूर्व सेवानिवृत्ति

मोदी सरकार की सख्ती, बीते पांच वर्षों में 96 भ्रष्ट अधिकारियों को दी गई समयपूर्व सेवानिवृत्ति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली/भाषा। सरकार ने बृहस्पतिवार को बताया कि पिछले पांच साल में करीब 96 भ्रष्ट अधिकारियों को जनहित में समयपूर्व सेवानिवृत्ति दी गई।

कार्मिक राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि 21 नवंबर 2019 तक की स्थिति के अनुसार जुलाई, 2014 से अक्टूबर 2019 तक सत्यनिष्ठा पोर्टल पर अपलोड की गई सूचना तथा आंकड़ों के मुताबिक विभिन्न मंत्रालयों एवं विभागों के कुल 96 अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की गई है।

उन्होंने बताया कि इन 96 भ्रष्ट अधिकारियों को जनहित में समयपूर्व सेवानिवृत्ति दी गई। सिंह ने बताया कि मूल नियम (एफआर), 56 (जे)(एल), केंद्रीय सिविल सेवा (सीसीएस, पेंशन) नियमावली 1972 के नियम 48 के प्रावधानों के अनुसार, सरकार के पास लोकहित में सत्यनिष्ठा की कमी और अकुशलता के आधार पर सरकारी कर्मियों को समय से पहले सेवानिवृत्त करने का पूरा अधिकार है।

मंत्री ने कहा, ये नियम सरकारी सेवकों की समय-समय पर समीक्षा और समय पूर्व सेवानिवृत्ति की नीति तय करते हैं जो एक सतत प्रक्रिया है।

Google News
Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Advertisement

Latest News

बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें! बेंगलूरु में रेव पार्टी: केंद्रीय अपराध शाखा ने छापेमारी की तो मिलीं ये चीजें!
बेंगलूरु/दक्षिण भारत। बेंगलूरु में केंद्रीय अपराध शाखा ने यहां एक स्थान पर छापे मारी की, जहां रेव पार्टी चल रही...
ओडिशा को विकास की रफ्तार चाहिए, यह बीजद की ढीली-ढाली नीतियों वाली सरकार नहीं दे सकती: मोदी
हेलीकॉप्टर हादसे में ईरान के राष्ट्रपति का निधन
आज लोकसभा चुनाव के 5वें चरण का मतदान, अब तक डाले गए इतने वोट
मंदिर: एक वरदान
उप्र: रैली को बिना संबोधित किए ही लौटे राहुल और अखिलेश, यह थी वजह
कांग्रेस-तृणकां एक ही सिक्के के दो पहलू, बंगाल में एक-दूसरे को गाली, दिल्ली में दोस्ती: मोदी